पोस्ट

जनवरी 27, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

इटालियन सेक्स स्केंडल

- अरविन्द सीसोदिया  अय्याशी की कहानी बताकर रो पड़ी बार डांसर इटली के प्रधानमंत्री बर्लुस्कोनी का सेक्स स्कैंडल में नाम आने के बाद इटली की रजनीति में बवाल उठ खड़ा हुआ है। मोरक्को की रहने वाली रूबी का नाम भी बर्लुस्कोनी से संबंध बनाने में आया। मोरक्को की रहने वाली रूबी ने एक टेलीविजन शो में अपना पूरा दर्द बयान किया। अभी इस पूरे मामले में जांच की जा रही है कि क्या रूबी को बर्लुस्कोनी ने सेक्स संबंधों के लिए रकम चुकाई थी। आरोप है कि जिस वक्त बर्लुस्कोनी ने रूबी के साथ संबंध बनाया उस वक्त रूबी की उम्र महज 17 साल की थी जो कि इटली में अपराध की श्रेणी में आता है | इटली के प्रधानमंत्री बर्लुस्कोनी के साथ एक मॉडल ने सेक्स करने की बात मानी है. इटली के प्रधानमंत्री सिल्विया बर्लुस्कोनी को लेकर चल रहा सेक्स स्कैंडल का मामला ठंडा पड़ने का नाम नहीं ले रहा है. इस मामले में एक लड़की ने कहा है कि उसने बर्लुस्कोनी के साथ सेक्स किया था.  टेलीग्राफ ने इटली की मीडिया की रिपोटरें के हवाले से लिखा है कि डोमिनिकन रिपब्लिक निवासी मारिया इस्टर गार्सिया पोलांको नामक इस 25 वर्षीय मॉडल ने प्रधानमंत्री के साथ

लाल चौक पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया

इमेज
- अरविन्द सीसोदिया   सीआरपीएफ ने लाल चौक पर फहराया तिरंगा श्रीनगर,   सीआरपीएफ ने बुधवार २६ जनवरी २०११  को यहां के एतिहासिक लाल चौक पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया। राजधानी के बेहद संवेदनशील इस इलाके में भाजपा ने तिरंगा फहराने की घोषणा की थी, जिसको मुख्यधारा की पार्टियों ने एक उत्तेजक कदम बताया था। सीआरपीएफ ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि उसके द्वारा लाल चौक के पैलेडियम पोस्ट पर सुबह 8:00 बजे राष्ट्रीय ध्वज फहराया , सीआरपीएफ के प्रवक्ता प्रभाकर त्रिपाठी ने तिरंगा फहराने की पुष्टि करते हुए कहा कि स्थानीय बटालियन के कमांडेंट ने पोस्ट पर राष्ट्रीय ध्वज  फहराया है। *** तिरंगा यात्रा का कारण  यह उठाना लाजिमी है कि भारतीय जनता पार्टी को 20 साल बाद लाल चैक पर तिरंगा फहराने की याद क्यों आयी। इसके जिम्मेदार भी उमर  अब्दुला ही है। भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी द्वारा 20 वर्ष पूर्व लाल चौक  पर तिरंगा फहराये जाने के बाद प्रतिवर्ष सुरक्षाबलों द्वारा राष्ट्रीय पर्वों   पर तिरंगा फहराया जाता था। गत स्वाधीनता दिवस पर उमर अब्दुला सरकार द्वारा लाल चौक  पर तिरंगा फहराये जाने का कोई कार्यक्रम नहीं किया गया। इस कारण