पोस्ट

फ़रवरी 6, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

इसाई मिशनरियां : 'धर्मांतरण करा रहे हैं मुख्य सचिव'

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  'धर्मांतरण करा रहे हैं मुख्य सचिव' अनिल द्विवेदी | रायपुर., जनवरी 24, 2012 पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष और वरिष्ठ भाजपा नेता बनवारीलाल अग्रवाल ने मुख्य सचिव और आइएएस पी.जॉय. उम्मेन पर धर्मातरण कराने तथा ईसाई मिशनरियों को संरक्षण देने का आरोप लगाया है. इस पर जवाबी हमले में उम्मेन ने इतना ही कहा कि मैं जो भी काम करता हूं, छिपकर नहीं करता. राज्य में धर्मांतरण का मुद्दा हमेशा से ही चर्चा में रहा है. पूर्ववर्ती जोगी सरकार पर भी भाजपा ने खूब हमला बोला था और उन पर इसाई मिशनरियों को संरक्षण देने का आरोप लगाया था. भाजपा सांसद दिलीपसिंह जूदेव की राजनीति का आधार ही धर्मांतरण समस्या रही है. पिछले कई वर्षों से वे ऑपरेशन घर वापसी अभियान चला रहे हैं. उनका भी आरोप हमेशा रहा है कि इसाई मिशनरियां भोले-भोले आदिवासियों को बरगलाकर सुविधाओं और सेवा के नाम पर इसाई बना रही हैं लेकिन लम्बे समय के बाद सरकार के किसी वरिष्ठ नेता ने राज्य के मुख्य सचिव पर धर्मांतरण का आरोप लगाया है. विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष बनवारीलाल अग्रवाल ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि मुख्य सचिव इसाई

कौन ठगवा नगरिया लूटल हो - दैनिक भास्कर - गोपाल कृष्ण गांधी

इमेज
कौन ठगवा नगरिया लूटल हो  दैनिक भास्कर में  ०६  फरबरी २०१२ के अंक में प्रकाशित  - गोपाल कृष्ण गांधी  लूट बहुमुखी बन चली है ।भूमी में , वनों में  अगर लूट है तो अब आसमान में भी है , टेलीकॉम के वायुमार्गों में भी है । लूट भूगोल में है ] खगोल में है , चौरस में है , गोल में है । स्वार्थ ज्यामिति लांघ गया है ।।  'लूट' शब्द जो है, ठेठ हिंदी का है। उर्दू में भी उसकी अपनी जगह है। यानी उसका घर हिंदुस्तानी में है, बोलचाल की मिली-जुली जुबान में। और अफसोस, अब उसका घर हमारी हर जुबान में है, हर दिमाग में, हमारी निराशा में, हमारे गुस्से में, हमारे आक्रोश में। आजकल हम लूट, लुट जाने और लुटेरों के बारे में इतना पढ़ते, देखते और सुनते हैं कि लगता है 'लूट' शब्द हमारे लिए और हमारे इस जमाने के लिए ही बनाया गया है, लेकिन बात ऐसी नहीं। लूट-रीति पुरानी है। इस शब्द की सही व्युत्पत्ति अजूबी है, धुंधली है। मेहमूद गजनवी इतिहास के लुटेरों में बड़ा नाम रखता है। लेकिन 'लूट' अरबी-फारसी से आया हुआ लफ्ज नहीं है। उसका स्रोत संस्कृत में देखा जा सकता है, पर उसका सहज निवास अन्यत्र मिलता है। शब्द-

वोट बैंक के लालच में देश को बांटने की साजिश : तोगडिय़ा

इमेज
वोट बैंक के लालच में देश को बांटने की साजिश : तोगडिय़ा कोटात्न विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगडिय़ा ने ओबीसी कोटे से अल्पसंख्यकों को साढ़े चार प्रतिशत आरक्षण देने पर कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए देशव्यापी आंदोलन की घोषणा की है। तोगडिय़ा रविवार को यहां सांगोद कस्बे में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के पथ संचलन कार्यक्रम में शामिल होने से पूर्व मीडियाकर्मियों से बात कर रहे थे। तोगडिय़ा ने कहा कि वोट बैंक के लालच में कांग्रेस ने देश को मजहब के आधार पर बांटने की ठान ली है लेकिन विश्व हिंदू परिषद देशभर में हिंदुओं की रोटी और शिक्षा बचाओ आंदोलन शुरू करेगा। उन्होंने कहा कि मजहब के आधार पर संविधान में आरक्षण देने का प्रावधान नहीं होने के बावजूद नेताओं ने चुप्पी साध ली है। सांगोद में उन्होंने सरकार के इस फैसले के खिलाफ लोगों को प्रेरित करने का आह्वान किया। पाक से चुनाव लड़ सकते हैं दिग्विजय : तोगडिय़ा ने मीडिया से बातचीत के दौरान कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के खिलाफ भी टिप्पणी की लेकिन राहुल गांधी के खिलाफ वे कुछ नहीं बोले। तोगडिय़ा ने कहा कि दिग्विजय कुछ