पोस्ट

फ़रवरी 11, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सोनिया गांधी : मुसलिम वोटरों को लुभाने का दांव : अब आंसू की राजनीति.....

चित्र
अब आंसू की राजनीति..... बाटला हाउस में मारे गये आतंकवादियों से कौनसा रिस्ता था सोनिया गांधीजी का जो उनके आंसू आ गये, इतने सारे आतंकवादी आक्रमणों में मारे गये देशवासियों के मरने पर तो उनके आंसू आये नहीं .....राहुल गांधी इस तरह की घटनाओं को आम बता रहे थे। फिर बाटला हाउस में क्या खास था, इसका उजागर होना जरूरी है। केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद को बाटला हाउस में मारे गये आतंकवादियों की सोनिया जी से रिश्तेदारी भी बतानी चाहिये........ ------- खुर्शीद के दांव से असहज हुई कांग्रेस नई दिल्ली/अमर उजाला ब्यूरो।Saturday, February 11, 2012     http://www.amarujala.com यह भले ही मुसलिम वोटरों को लुभाने का दांव हो। मगर बटला हाउस के मसले पर सोनिया गांधी के रोने की केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद की बात पर कांग्रेस को बचाव करना मुश्किल हो गया है। खुर्शीद के इस बयान से कांग्रेस के पल्ला झाड़ने के बावजूद मामला शांत नहीं हुआ है। विपक्ष के ताबड़तोड़ हमले के आगे कांग्रेस का बचाव भोथरा साबित हो रहा है। सवालों की बौछार को टालने की पूरी कोशिश उत्तर प्रदेश में शनिवार को होने वाले दूसरे चरण के मतद

अब्दुल कलाम - मेरी शिक्षा मातृभाषा में हुई, इसलिए ऊँचा वैज्ञानिक बन सका

चित्र
ए  पी  जे अब्दुल कलाम - अरविन्द सिसोदिया  Feb 08,2012 उच्च तकनीकी क्षेत्र जैसे उपग्रह निर्माण जिसे उच्च तकनीक कहा जाता जो बहुत कठिन एवं क्लिष्ट तकनीक होती है, उसमें आज तक कोई विदेशी कंपनी इस देश में नहीं आई | भारत जिसने १९९५ एक आर्यभट्ट नमक उपग्रह अंतरिक्ष में छोड़ा एवं उसके उपरांत हमारे अनेकों उपग्रह अंतरिक्ष में गए है | अब तो हम दूसरे देशों के उपग्रह भी अंतरिक्ष में छोड़ने लगे है इतनी तकनीकी का विकास इस देश में हुआ है यह संपूर्ण स्वदेशी पद्दति से हुआ है, स्वदेशी के सिद्धांत पर हुआ है एवं स्वदेशी आंदोलन की भावना के आधार पर हुआ है | इसमें जिन वैज्ञानिकों ने कार्य किया है वह स्वदेशी, जिस तकनीकी का उपयोग किया गया है वह स्वदेशी, जो कच्चा माल उपयोग किया गया है वह स्वदेशी, इसमें जो तकनीक एवं कर्मकार लोगों का सहयोग प्राप्त हुआ वह सब स्वदेशी, इनको अंतरिक्ष में प्रक्षेपित करने हेतु जो कार्य हुआ है वह भी हमारी प्रयोगशालाएं स्वदेशी इनके नियंत्रण का कार्य होता है वह प्रयोगशालाएं भी स्वदेशी तो यह उपग्रह निर्माण एवं प्रक्षेपण का क्षेत्र स्वदेशी के सिद्धांत पर आधारित है |एक और उदाहरण है " प