पोस्ट

फ़रवरी 14, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भारतीयों का काला धन 500 अरब डॉलर { २५ लाख करोड़ }

चित्र
नई दिल्ली।  केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) प्रमुख अमर प्रताप सिंह ने सोमवार को बताया कि भारतीयों का नाम स्विस बैंक के सबसे बड़े जमाकर्ताओं में शामिल है, जिन्होंने कर बचाने के मकसद से 500 अरब डॉलर { २५ लाख करोड़  }तक काला धन विदेश में जमा किया है। सिंह ने यह बात इंटरपोल अधिकारियों के छह दिवसीय प्रशिक्षण की शुरूआत के मौके पर कही। उन्होंने कहा कि भारत मॉरीशस, स्विट्जरलैंड, लिचेंस्टीन और ब्रिटिश वर्जीन आईलैंड जैसे टैक्स हैवेन में अवैध धन के प्रवास की समस्या से प्रभावित है। यथा राजा, तथा प्रजा सीबीआई निदेशक इस दौरान सरकार पर भी निशाना साधने से नहीं चूके। उन्होंने प्रसिद्ध उक्ति यथा राजा तथा प्रजा का जिक्र करते हुए कहा जैसा राजा होगा, प्रजा भी वैसी होगी। अगर व्यवस्था आपारदर्शी, जटिल, केंद्रीकृत और भेदभावकारी हों तो भ्रष्टाचार के फलने फूलने की आशंका बढ़ जाती है। बेहद चालाक हैं चोर सिंह ने कहा कि वैश्विक वित्तीय बाजार धन के तेजी से प्रवाह में मदद करते हैं और ऐसे मामलों में धन का पता लगाने में और दिक्कत करते हैं। अपराधी अपने लाभ के लिए जांच एजेंसियों के क्षेत्रीय मुद्दों का इस्तेमाल कर अ

पूर्व चीफ जस्टिस और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष के. जी. बालाकृष्णन : 40 करोड़ रुपये से अधिक संपत्ति अर्जित

चित्र
सुप्रीम कोर्ट ने, पूर्व न्यायमूर्ति केजी बालाकृष्णन पर सरकार से मांगा जवाब 13 Feb 2012, भाषा | http://navbharattimes.indiatimes.com नई दिल्ली।। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से जानना चाहा कि क्या उसने देश के पूर्व चीफ जस्टिस और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष के. जी. बालाकृष्णन के खिलाफ आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति रखने के आरोपों की कोई जांच कराई है। चीफ जस्टिस एस. एच. कपाड़िया की बेंच ने सरकार को निर्देश दिया कि वह एक महीने के भीतर बालाकृष्णन पर लगे आरोपों पर की गई कार्रवाई अथवा ऐसा करने की मंशा के बारे में जानकारी दे। बालाकृष्णन पर आरोप है कि उन्होंने 2004 से 2009 के बीच अपने रिश्तेदारों के नाम पर 40 करोड़ रुपये से अधिक संपत्ति अर्जित की। बेंच ने कहा, 'हम जानना चाहते हैं कि पूर्व चीफ जस्टिस के खिलाफ सरकार को दिए गए आवेदन पर क्या कार्रवाई की गई और सरकार की क्या करने की मंशा है।' बेंच को बताया गया कि करीब 10 महीने पहले सरकार से शिकायत की गई थी, लेकिन अब तक इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। बेंच ने अटर्नी जनरल जी. ई. वाहनवती से इस मुद्दे पर एक महीने में जानकार

विदेशी बैंकों में जमा काला धन : विदेशी कर्ज का आठ गुना

चित्र
विदेशी कर्ज का आठ गुना है काला धन नई दिल्ली, मुख्य संवाददाता, मंगलवार, 14 फरवरी, 2012 | http://www.livehindustan.com भारत में किसी नवजात के पैदा होते ही उस पर अप्रत्यक्ष रूप से करीब तीन हजार रुपये का विदेशी कर्ज भी चढ़ जाता है। कारण है भारत पर तकरीबन 3.4 लाख करोड़ का विदेशी कर्ज। ऐसे में अगर सीबीआई भारतीयों द्वारा विदेशी बैंकों में जमा 500 बिलियन डॉलर (24.5 लाख करोड़ रुपये) का काला धन वापस ले आई, तो यह कर्ज खत्म हो सकता है। यह काला धन विदेशी कर्ज का आठ गुना है। सीबीआई निदेशक एपी सिंह सोमवार को भ्रष्टाचार व संपत्ति बरामदगी को लेकर राजधानी में आयोजित पहले इंटरपोल ग्लोबल कार्यक्रम में थे। उन्होंने कहा, भारतीयों का 24.5 लाख करोड़ रुपये का काला धन विदेशी बैंकों में जमा है। हम इसे लाने का प्रयास कर रहे हैं, हालांकि पिछले 15 सालों में हम मात्र पांच बिलियन डालर ही वापस ला सके हैं।

कांग्रेस : गरीव का घोर अपमान

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया     हमारे देश में इस तरह के सत्ताधीस हें जो आम आदमी को राज लूटनें में तो लगे हैं मगर जब उसे कुछ देनें की बात आती हें तो ठेंगा दिखा देते हें ... योजना आयोग ने कहा कि इस तरह शहर में 32 रुपये और गांव में हर रोज 26 रुपये खर्च करने वाला शख्स बीपीएल परिवारों को मिलने वाली सुविधा को पाने का हकदार नहीं है।   इस रिपोर्ट पर खुद प्रधानमंत्री ने हस्ताक्षर किए थे।............यह सच एक गरीव का घोर अपमान हे .......इसके लिए कांग्रेस अपनी जिम्मेवारी और जबावदेही से पल्ला नहीं छुड़ा सकती ........... ---------- "जब देश स्वतंत्र हुआ था तब मात्र 9% लोग ही गरीबी की रेखा के नीचे थे. आज 40 % गरीबी की रेखा के नीचे और 30 % गरीबी की रेखा के ठीक ऊपर हैं, यानी देश के 70 % की आबादी दरिद्रों अतिदरिद्रों की है . देश के कुल 7 % लोगों को ही शुद्ध पेयजल उपलब्ध हो पा रहा है. स्वास्थ सेवा पहाड़ सी हैं पर पिद्दी से मच्छर डेंगू से पराजित होती नज़र आती हैं. टाट - पट्टी स्कूल और अभिजात्य पब्लिक स्कूलों के बीच सामान मुफ्त शिक्षा का नारा हतप्रभ खड़ा है. 30 % महिलायें खुले मैं शौच जाने को अभिशिप्त हैं और झ