पोस्ट

अप्रैल 18, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

महात्मा गांघी के खून तक को नीलम : बिट्रिश नैतिकता की पोल खुल गई

इमेज
बिट्रिश नैतिकता की पोल खुल गई ,धन के लिए उन्होंने महात्मा गांघी के खून तक को नीलम कर दिया , ये नंगे भूखे लोग दुनिया को लूटते तो रहे , जब हर रफ से हर के घर बैठ गए तो भी नंगेपन से बाज नहीं आये...यही है इनकी असलियत ................. और ........... भारत सरकार का निक्काम्मापन वह सारा तमाशा देखती रही ....क्या बापू ने यही सब देखने के लिए भारत को स्वतंत्र करवाया था.... --------- बापू के खून से सनी घास 10,000 पाउंड में नीलाम लंदन, एजेंसी First Published:17-04-12 साल 1948 में जिस जगह महात्मा गांधी की हत्या हुई थी वहां की खून से सनी घास और मिट्टी मंगलवार को 10,000 पाउंड में यहां नीलाम की गई। बापू से जुड़ी जिन चीजों को आज नीलाम किया गया उनमें उनका गोल चश्मा भी शामिल था। नीलामी से पहले चश्मे को जितनी कीमत मिलने का अंदाजा लगाया गया था वह इससे दोगुनी कीमत पर बेचा गया। चश्मे की नीलामी 34,000 पाउंड में हुई जबकि बापू के चरखे को 26,000 पाउंड की कीमत मयस्सर हुई। नीलामी घर मुलॉक्स ने इस महीने की शुरुआत में ही ऐलान कर दिया था कि वह गांधी से जुड़ी चीजों की नीलामी करने जा रहा है। मुलॉक्स

.भारत में अश्लीलता : 'हेट स्टोरी' के हॉट पोस्टर्स न दिखाएं: हाईकोर्ट

इमेज
केंद्र  सरकार  के निकम्मेपन के कारण.भारत में अश्लीलता का इस  तरह खुला प्रदर्शन   हो रहा जैसे यह भगवान की कोई पवित्र मूर्तियाँ हों..सरकार को समाज हित में कठोर  कदम उठाने  चाहिए थे मगर वह तो सन्नी लिओन को नागरिकता देने में ज्यादा व्यस्त  रही..यह सरकार की विकृत  मनोविकृति  का उदाहरण  है...कोलकाता उच्च न्यायालय ने स्वागत योग्य निरणय दिया हे ... -------- 'हेट स्टोरी' के हॉट पोस्टर्स न दिखाएं: हाईकोर्ट 18 Apr 2012 कोलकाता ।। कोलकाता उच्च न्यायालय ने इसी शुक्रवार को रिलीज होने वाली हिन्दी फिल्म ' हेट स्टोरी ' के वितरकों को आज निर्देश दिया कि वे फिल्म के प्रचार के लिए उत्तेजक पोस्टरों का प्रदर्शन नहीं करें। जस्टिस दीपांकर दत्त ने पश्चिम बंगाल सरकार के उस आदेश पर रोक लगाने से इनकार कर दिया जिसमें वितरकों को ऐक्ट्रेस पाउली दाम को उत्तेजक मुद्राओं में दिखाने वाले पोस्टर प्रदर्शित नहीं करने का निर्देश दिया गया था। अदालत ने वितरक और राज्य सरकार से कहा कि वे अपने दावों के समर्थन में हलफनामे पेश करें। वितरकों ने दावा किया कि फिल्म को पहले ही यू / ए प्रमाणपत्र दिया जा चुका है