पोस्ट

मई 3, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सरबजीत के शरीर से कई महत्वपूर्ण अंग गायब

इमेज
सरबजीत के शरीर से कई महत्वपूर्ण अंग गायब थे : डॉक्‍टर Friday, May 03, 2013, ज़ी मीडिया ब्यूरो अमृतसर : सरबजीत का पोस्‍टमार्टम करने वाले डॉक्‍टर ने शुक्रवार को कहा कि सरबजीत सिंह के शरीर से कई महत्वपूर्ण अंग गायब थे। सिर की हड्डियां कई जगहों से टूटी हुई थी। सरबजीत की दूसरी पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है। अमृतसर मेडिकल कॉलेज के फोरेंसिक विभाग के एचओडी गुरजीत सिंह मान ने मीडिया से बातचीत में कहा कि सरबजीत सिंह के सिर पर गहरे जख्‍म के निशान मिले हैं और सिर की हड्डियां कई जगह से टूटी हुई थी। शरीर के कुछ अहम अंग भी गायब थे। सरबजीत का शरीर बिना पेट का था। उसके शरीर में गॉल ब्‍लैडर, हॉर्ट और दोनों किडनी मौजूद नहीं था। इसके अलावा कुछ पसलियां भी टूटी हुई थी। पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट से यह खुलासा भी हुआ है कि सरबजीत की मौत 24 घंटे पहले हुई थी। डॉक्‍टर ने यह भी कहा कि सरबजीत की मौत 2 मई की रात पौने एक बजे के करीब हुई है। सरबजीत के हमलावरों के दो से अधिक होने की आशंका जताई जा रही है। मान ने यह भी बताया कि पाकिस्‍तान से केवल एक पन्‍ने की पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट मिली है और

Teesta : तीस्ता सीतलवाड़ : मानवता से किस तरह का रिश्ता ?

इमेज
हाल  ही में सरबजीत का पाकिस्तानी जेल में कत्ल हुआ  ओर पूरा  देश पाकिस्तान की इस नापाक हरकत पर गुस्से में हे मगर आपने ....शहीद सरबजीत  के पक्ष में एक भी शब्द तीस्ता का नहीं सुना होगा… ? यह प्रश्न उनसे ही होना चाहिए की आपका मानवता से  किस तरह का रिश्ता  है  ?  बुधवार , 15 अप्रेल 2009 गुजरात दंगो को लेकर गुजरात के जिन दंगा पीड़ितों को लेकर तीस्ता सीतलवाड़ दिल्ली से मुंबई तक उनके शपथ पत्र के साथ घूम कर दावा कर रही थी कि इन लोगों के घर वालों को दंगाईयों ने जिंदा जला दिया और बेघर कर दिया, वे सब फर्जी निकले। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा तीस्ता सीतलवाड़ के दावों की जाँच के लिए सीबीआई के पूर्व निदेशक ए राधवन की अध्यक्षता में गठित समिति ने कहा है कि इस मामले में तीस्ता सीतलवाड़ द्वारा जिन लोगों के शपथ पत्र पेश किए गए हैं, उन्होंने खुद कहा है कि उन्होंने तीस्ता सीतलवाड़ के कहने पर ये शपथ पत्र दिए, उन्होंने खुद ऐसी कोई जानकारी नहीं है जो शपथ पत्र में दी गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि तीस्ता सीतलवाड के इन दावों में भी कोई कम नहीं है कि दंगों के दौरान गुलबर्ग सोसायटी में तकालीन पुलिस आयुक्त