पोस्ट

दिसंबर 2, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

राजीव दिक्षित : जिस शख्स से कांपती थी बहुराष्ट्रीय कंपनियां ...

चित्र
- अरविन्द सीसोदिया  यह वह व्यक्ती  था जिसने राष्ट्र को सच्चा आइना दिखया कि हमें कैसे लूटा था और कैसे लूटा जा रहा है...! पाश्चात्य जगत की घोर अमानवीय लूटों के सिलसिले को जिसने साक्ष्यों के माध्यम से निरंतर उअजगर किया था ..! उन्हें विनम्र श्रृद्धांजली !! अब हम सब यह जिम्मेवारी स्वीकारें कि उनके बताये रास्ते पर चल कर देशको बचाने का काम हम सबमिलकर करेंगे !  राजीव दिक्षित आजादी बचाओ आन्दोलन के संस्थापक एवं प्रखर वक्ता हैं। वे भारत के विभिन्न भागों में बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के विरुद्ध जन जागरण का काम करते हैं। उनके भाषणों के कैसेट खूब सुने/देखे जाते हैं। आर्थिक मामलों पर उनका विचार स्वदेशी का है। बाबा रामदेव ने राजीव दीक्षित को अपने भारत स्वाभिमान (ट्रस्ट) का  प्रवक्ता और सचिव बनाया था |  -- दुखद निधन .... राजीव दीक्षित को ३० नवम्बर मंगलवार सांय दिल का दौरा पड़ने के कारण म्रत्यु पहले भिलाई के सरकारी अस्पताल में और फिर अपोलो बीएसआर असपताल में दाखिल कराया गया था। उन्हें दिल्ली ले जाने की तैयारी की जा रही थी लेकिन इसी दौरान स्थानीय डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। डाक्टरों का कहना है क

राजीव दीक्षित :ह्रदय के अन्तमः तल से हार्दिक श्रधान्जली...!

चित्र
ह्रदय के अन्तमः तल से हार्दिक श्रधान्जली ...!  - अरविन्द सीसोदिया राजीव दीक्षित जी, का हमारे बीच से जाना एक अपूर्णीय क्षति हैं. एक व्यक्ति जिसने पूरा जीवन देश सेवा में लगा दिया बिना किसी निजी स्वार्थ के. चाहे वो भारत स्वाभिमान आन्दोलन हो या आज़ादी बचाओ आन्दोलन हो. सहसा कानो को विश्वास ही नहीं हुआ... ईश्वर अच्छे, सच्चे लोगो का जीवन इतना लघु और कठोर क्यूँ बनाता हैं. मेरी आत्मा दुखी हैं इस घटना से .....!      मुझे आश्चर्य इस बात पर है कि मीडिया ने इतने  अच्छे राष्ट्रवादी चरित्र के निधन की बात को कम महत्व दिया..! मेंने उनका सानिध्य प्राप्त किया है ... वे आज के युग में पश्चिमी पाखंड को सर्वाधिक समझने वाले थे ..!  भारत स्वाभिमान के राष्ट्रीय प्रबक्ता एवं सचिव श्री राजीव दीक्षित जी ने भारत स्वाभिमान यात्रा के दौरान माँ भारती की सेवा करते हुए सर्वोच्च बलिदान दे दिया

२ जी स्पेक्ट्रम : ये (भ्रष्टाचार का ) प्रदूषण तो दिमाग को हिला देने वाला है

- अरविन्द सीसोदिया     याद रहे कि इससे पहले जो सरकारें थी उनमें भारतीय नैतिकता और मर्यादाएं थीं.., मगर सोनिया जी में न तो भारतीयता है और राष्ट्र के अनुकूल मर्यादाएं हैं ..! उनके पिता श्री इटली के सुविख्यात फासिस्ट मुसोलिनी की पार्टी से थे ... मानसिक रूप से उनके परिवार ने जो अनुभव किया वह फासिस्ट पन था ..जो समन्वय को पशन्द नहीं करता है ..! इस कारण इस सरकार को इन घोटालों पर कोई शर्म नहीं है.....! इन्हें अपने राजकुमार में प्रधान मंत्री नजर आता है और वाई इस के रेड्डी के राजकुमार में खलनायक नजर आता है.., ये कांग्रेस वंशवादी कायरों की जमात बन कर रह गई है ..!! ये जे पी सी या अन्य निष्पक्ष जांच नहीं करवा सकते ..! ---- सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि नीरा राडिया से बातचीत के टेप से जो खुलासे हुए हैं, वो झकझोर देने वाले हैं. २ जी स्पेक्ट्रम मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने ये टिप्पणी की. राडिया के टेप्स की चर्चा करते हुए अदालत ने कहा कि हम अक्सर नदियों के प्रदूषण, यहां तक कि गंगा नदी के प्रदूषण की बात करते हैं, लेकिन ये (भ्रष्टाचार का ) प्रदूषण तो दिमाग को हिला देने वाला है. उधर, सीबीआई रा