पोस्ट

अगस्त 18, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सोनिया गांधी की हिन्दू विरोधी मानसिकता

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया               श्रीमती  सोनिया गांधी की अध्यक्षता में बनाई गई राष्ट्रीय सलाहकार परिषद द्वारा तैयार किया गया प्रस्तावित साम्प्रदायिक हिंसा रोकथाम विधेयक यदि संसद द्वारा पारित कर दिया गया तो मुस्लिम, ईसाई आदि अल्पसंख्यक समूहों को हिन्दुओं के प्रति घृणा फैलाने, हिन्दुओं को प्रताड़ित करने और हिन्दू महिलाओं से बलात्कार करने के लिए प्रोत्साहन मिल जाएगा | क्योंकि इस प्रस्तावित कानून के अन्तर्गत यदि बहुसंख्यक वर्ग अर्थात हिन्दू किसी अल्पसंख्यक समूह के प्रति घृणा फैलाएं या हिंसा करें या यौन उत्पीड़न करें तो हिन्दुओं को दंडित करने का प्रावधान है | किन्तु मुस्लिम, ईसाई आदि अल्पसंख्यक समूहों द्वारा हिन्दुओं के प्रति घृणा फैलाई जाए या हिंसा की जाए या बलात्कार आदि यौन शोषण किया जाए, तो उन अल्पसंख्यकों को किसी प्रकार का दंड देने का कोई प्रावधान नहीं है।                 इतना ही नहीं यदि कोई अल्पसंख्यक उपरोक्त अपराधों के  लिए किसी बहुसंख्यक व्यक्ति या संगठन के विरुद्ध शिकायत करता है तो उसकी जांच किए बिना ही उस व्यक्ति एवं संगठन को अपराधी मानकर उसका संज्ञान लिया जाएगा। इस अपराध की अ

अन्ना के साथ जन आक्रोश क्यों , देश के प्रमुख घोटाले......

इमेज
. अरविन्द सीसौदिया 1. 2 जी स्पैक्ट्रम घोटाला, देश का सबसे बडा घोटाला,  1.76 लाख करोड का,मुख्य आरोपी दूरसंचार संचार मंत्री ए राजा...! 2. कामनवेल्थ गेम घोटाला। देश को शर्मसार करने वाला 70 हजार करोड का,मुख्य आरोपी सुरेश कलमाडी,शीला दीक्षित 3. आदर्श हाउसिंग घोटाला। कारगिल शहीदों के नाम पर मुंम्बई के कोलाबा के पाॅश इलाके में सोसाइटी के नाम पर जमीन का आवंटन करने के बाद आवंटियों ने करीब 9 अरब का फायदा उठाया। 4.एस बैंड स्पैक्ट्रम आवंटन लगभग 2 लाख करोड के अनुमानित फायदा आवंटियों उठाना चाहते थे,यह मामला सीधे प्रधानमंत्री से जुडा हे। 5.यूपी खाद्यान्न घोटाला सन् 2001 से 2007 तक के बीच 35 हजार करोड का घोटाला है, यह जनता की राहत योजनाओं जैसे कि अंत्योदय,अन्नपूर्णा,मिड डे मील के नाम पर मिले खाद्यान्न को बेच कर किया गया हे।  इनके अलावा इन पिघले 20 सालों में कम से कम 36 घोटाले और भी हैं जिनमें जनता के धन की जम कर लूट हुई है। फायदा उठाने वोले फायदा उठा चुका,नुकसान पाने वाला रोता रहा हे। सबसे अहम सवाल यह है कि इन घोटालों ने देश की आम जनता को गरीब बनाने के साथ साथ,उनको मिलने वाली राहत तक को छीना है