पोस्ट

जनवरी 30, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सांस्कृतिक विरासत के मेलों और उत्सवों को मिलेगी वैश्विक पहचान : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे जी

चित्र
मेलों और उत्सवों को मिलेगी वैश्विक पहचान 28 जनवरी, 2017 मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे जी ने कहा कि अपनी अनूठी सांस्कृतिक विरासत के लिए मशहूर राजस्थान के मेलों और उत्सवों को देश-दुनिया में पहचान दिलाने के लिए राज्य सरकार पूरा प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि ये मेले विश्व स्तर पर हमारी संस्कृति का शो-केस हैं और विदेशी पर्यटक बडे़ उत्साह से इन उत्सवों को देखने आते हैं। हम सभी का पूरा प्रयास होना चाहिए कि ऐसे आयोजनों की गौरवशाली विरासत को सहेज कर उसे और अधिक समृद्ध बनाया जाए। श्रीमती राजे शनिवार को कोटा जिले के खैराबाद धाम में श्री फलौदी माता के दर्शन के बाद 19वें द्वादशवर्षीय मेले के उद्घाटन समारोह में श्रद्धालुओं को सम्बोधित कर रही थीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता ज्योतिर्मय अवंतर पीठ के श्री ज्ञानानंद जी तीर्थ युवाचार्य ने की। शीतलहर एवं ओलावृष्टि से नुकसान की गिरदावरी के निर्देश श्रीमती राजे ने कहा कि बीते दिनों कोटा संभाग सहित प्रदेश के कुछ हिस्सों में शीतलहर और ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा शीघ्र ही दिया जायेगा। इसके लिए उन्होंने फसलों को हुए नुकसान क