पोस्ट

जुलाई 17, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

दिग्विजय सिंह का नारको टेस्ट होना चाहिये

चित्र
- अरविन्द सीसौदिया मुम्बई में हमले के बाद असली अपराधियों से ध्यान हटानें के लिये एक बार फिर से कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने जांच एजेंसियों पर अपरोक्ष दबाव बनाया है कि हिन्दू संगठनों की भी भूमिका हो सकती हे।  यह एक प्रकार से सरकारी पार्टी के द्वारा सही जांच को प्रभावित करना ही हे।  दूसरी बात मुम्बई में जब पिछला हमला हुआ था उसके बारे में भी सिंह ने कहा था कि उनकी बात एक शहीद हुये जांच कर्ता पुलिस अधिकारी से हुई थी। जिस का  एक अर्थ यह तो है कि महाराष्ट्र को कांग्रेस हिन्दू संगठनों को बदनाम करने की प्रयोगशाला बना रही हे।  जिस तरह से सी बी आई का दुरउपयोग किया जा रहा है उसी प्रकार महाराष्ट्र की कांग्रेस सत्ता का भी दुरउपयोग कर प्रज्ञा ठाकुर को जेल में डाल ही रखा है। आज यह आवश्यक हो गया है कि दिग्विजय  का नारको टेस्ट हो ताकी यह तो पता चले, वे हिन्दुत्व के खिलाफ , इसाई हितों के लिये क्या क्या षडयंत्र रच रहे हैं।   ------- नागपुर। मुम्बई धमाकों पर अब राजनीतिक बयानबाजी ने तूल पकड़ लिया है। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह इन धमाकों में हिंदू सगठनों के हाथ की संभावना होने की बात कह क