पोस्ट

अगस्त 14, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं झाँकी हिंदुस्तान की...

इमेज
   भारत की स्वतंत्रता हो और कवि पंडित प्रदीप को याद नहीं किया जाये तो लगता है कि हम कुछ भूल रहे हैं .......उनके लिखे राष्ट्र भक्ति गीतों ने परतंत्र भारत में भी धूम मचा दी थी......,आजादी के बाद भी उनका सबसे ज्यादा चर्चित राष्ट्र भक्ति  गीत ये मेरे वतन के लोगों जरा आँख में भरलो पानी ..रहा ...!!  एक गीत यद्यपि कवि प्रदीप ने स्वयं गाया नहीं था, लेकिन उनकी लिखी इस रचना ने ब्रिटिश शासकों को हिला दिया था, जिसके बोल हैं - आज हिमालय की चोटी से फिर हमने ललकारा है, दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिंदुस्तान हमारा है। ब्रिटिश अधिकारी ढूंढ़ने लगे कवि प्रदीप को। जब उनके कुछ मित्रों को पता चला कि ब्रिटिश शासक कवि प्रदीप को पकड़कर कड़ी सजा देना चाहते हैं तो उन्हें कवि प्रदीप की जान खतरे में नजर आने लगी। मित्रों और शुभचिंतकों के दबाव में कवि प्रदीप को भूमिगत हो जाना पड़ा। ----- फ़िल्म - जागृति (Jagriti) गायक- प्रदीप संगीत - हेमंत कुमार आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं झाँकी हिंदुस्तान की इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान की वंदे मातरम ... उत्तर में रखवाली करता पर्वतराज विराट है दक्षिण में चरणों को धोता साग