पोस्ट

मई 27, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

महेन्द्र कर्मा : नक्सलवाद आतंकवाद का दूसरा चेहरा है

इमेज
Anil Pusadkar महेन्द्र कर्मा ने कहा था"बस बहुत हो चुका,आदिवासी कह रहे है हमे हमारे हाल पे छोड दो" 21 अगस्त 2008 को प्रेस क्लब रायपुर में सलवा जुडूम पर व्याख्याने में तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष अब स्व महेन्द्र कर्मा के भाषण का अंश,जस का तस. नक्सलियों की हिट लिस्ट में टॉप पर हैं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता महेन्द्र कर्मा। वे जब नक्सल समस्या पर बोलने लगे तो एक नेता के साथ-साथ एक आदिवासी का दर्द भी उनकी जुबान से निकल रहा था। उन्होंने कहा कि बस्तर का आदिवासी कह रहा है कि बहुत हो चुका है हमें हमारे हाल पर छोड़ दो। महेन्द्र कर्मा छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष है। जवानी में महेन्द्र कर्मा भी कामरेड ही थे लेकिन समय के साथ उनके विचार बदले और अब वे कांग्रेस के दिग्गज नेता हैं और सलवा जुडूम के घोर समर्थक। प्रेस क्लब में माकपा नेता धर्मराज महापात्र के जोशीले भाषण ने श्रोताओं की जितनी तालियाँ बटोरी उतना ही कर्मा को गुस्से से भर दिया। स्वभाव से तेज़तर्रार महेन्द्र कर्मा व्याख्यान शुरू करते ही तैश में आ गए। उनका गुस्सा स्वाभाविक था। उन्होंने कहा कि लोगों ने बस्तर देखा तक नहीं, वे जानते