पोस्ट

अगस्त 9, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पंचायत से लेकर पार्ल्यामेंट तक हर चुनाव जरूरी - अमित शाह

चित्र
अमित शाह ने कार्यकर्ताओं के सामने रखा नया लक्ष्य नवभारतटाइम्स.कॉम | Aug 9, 2014 नई दिल्ली भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में अमित शाह के पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के मनोनयन पर मुहर लग गई है। अमित शाह ने इस मौके पर कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए कहा कि अध्यक्ष बनना कार्यकर्ताओं का सम्मान है। उन्होंने अपने ऊपर भरोसा जताने के लिए पार्टी का धन्यवाद भी जताया। इसके बाद अमित शाह ने कहा कि पार्टी के कार्यकर्ता किसी चुनाव को हल्के में न लें, पंचायत से लेकर पार्ल्यामेंट तक हर चुनाव जरूरी है। अपने भाषण में बीजेपी अध्यक्ष ने अगले कुछ दिनों में चार राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों का जिक्र करते हुए कहा कि इन सूबों में प्रचंड बहुमत से हमारी जीत जरूरी हैं। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर को दो परिवारों के भ्रष्टाचार ने जनता को लूट लिया है, वहां बदलाव पूरे सिर्फ राज्य के नहीं पूरे देश के कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी है। हरियाणा का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यहां सबसे पहले चुनाव होना है, हो सकता है कि यहां हमारा किसी से गठबंधन हो लेकिन कार्यकर्ता इस काम मे

पुनर्जन्म की बात को सच मानते हैं ?

क्या वेद पुराणों में मौजूद पुनर्जन्म की बात को सच मानते हैं? राकेश झा / टीम डिजिटल पुनर्जन्म और पूर्वजन्म की बात याद आ जाना ऐसी घटनाएं समय-समय पर होती रहती हैं। विज्ञान इस तरह की बातों को पूरी तरह स्वीकार नहीं करता है। लेकिन वेदों पुराणों में यह स्पष्ट लिखा गया है कि आत्माओं का सफर निरंतर चलता रहता है। गीता में भगवान श्री कृष्ण ने स्वयं कहा है कि आत्मा एक शरीर का त्याग करके दूसरा शरीर को धारण कर लेता है। यानी जिसकी भी मृत्यु हुई है फिर से लौटकर किसी दूसरे रुप में आएगा। महाभारत में एक कथा का उल्लेख है कि, भीष्म श्रीकृष्ण से पूछते हैं, आज मैं वाणों की शैय्या पर लेटा हुआ हूं, आखिर मैंने कौन सा ऐसा पाप किया था जिसकी यह सजा है। भगवान श्री कृष्ण कहते हैं आपको अपने छः जन्मों की बातें याद हैं। लेकिन सातवें जन्म की बात याद नहीं है जिसमें आपने एक नाग को नागफनी के कांटों पर फेंक दिया था। यानी भीष्म के रुप में जन्म लेने से पहले उनके कई और जन्म हो चुके थे। इन्हें अपने पूर्व जन्मों की बातें भी याद थी। महाभारत का एक प्रमुख पात्र है शिखंडी। कथा है कि शिखंडी को भी अपने पूर्व जन्म की बाते