पोस्ट

जनवरी 13, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

किसानों के लिये वरदान साबित होगी मोदीजी की नई फसल बीमा योजना

इमेज
डेढ़ से दो हजार में एक लाख की फसल बीमा http://abpnews.abplive.in By: शिशिर सिन्हा, बिजनेस एडिटर, एबीपी न्यूज़ | Last Updated: Wednesday, 13 January 2016 नई दिल्ली: आम लोगों को सस्ती कीमत पर जीवन व दुर्घटना बीमा सुरक्षा मुहैया कराने के बाद सरकार ने अब किसानी की सुध ली है. इसी को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय कैबिनेट ने नयी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना पर अपनी मुहर लगा दी. नयी योजना इस साल खरीफ फसलों के मौसम से शुरु की जाएगी. योजना के तहत खरीफ फसलों (प्रमुख फसल – धान, समय – मई से सितम्बर) और रबी फसलों (प्रमुख फसल – गेहूं, समय – नवम्बर से मार्च) के लिए अलग-अलग प्रीमियम की दर होगी. पूरे देश भर में खरीफ फसलों के लिए किसानों को एक समान 2 फीसदी (बीमित रकम का), और रबी के लिए एक समान 1.5 फीसदी (बीमित रकम का) की दर से प्रीमियम चुकाना होगा. पूरे नुकसान के बराबर मुआवजा मिलेगा. एक चौथाई मुआवजा, दावा दायर करने के तुरंत बाद और बाकी नुकसान की रिपोर्ट आने के बाद दिया जाएगा. मुआवजे की रकम का भुगतान बैंक अकाउंट के जरिए होगा. एक बार प्रीमियम चुकाने पर एक फसल कवर होगा. वैसे तो फसल बीमा

साल 2016 में मकर संक्रांती 15 जनवरी को : देवताओं के दिन का सूर्योदय

इमेज
इस वार मकर संक्रांती 15 जनवरी को पृथ्वी 15 जनवरी से होगी उत्तरायण  देवताओं के  दिन का सूर्योदय  होता है उत्तरायण   =================== मकर संक्रांति से जुड़ी रोचक बातें, जो शायद आप नहीं जानते Posted by: Ajay Mohan Published: Monday, January 11, 2016 [कला, संस्कृति एवं धर्म] मकर संक्रांति ही एक ऐसा पर्व है जिसका निर्धारण सूर्य की गति के अनुसार होता है। प्रतिवर्ष 14 जनवरी को मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं उस काल विशेष को ही संक्रांति कहते हैं। यूं तो प्रति मास ही सूर्य बारह राशियों में एक से दूसरी में प्रवेश करता रहता है। वर्ष की बारह संक्रांतियों में यह सब से महत्वपूर्ण है। साल 2016 में मकर संक्रांति स्मार्त विप्र कर्मकांड परिषद के ज्योतिष ज्योतिर्विद पंडित सोमेश्वर जोशी कहते हैं कि मकर राशि में प्रवेश करने के कारण यह पर्व मकर संक्रांति व देवदान पर्व के नाम से जाना जाता है। धर्मसिंधु के अनुसार जिस वर्ष रात्रि में संक्रांति हो तो पुण्य काल दूसरे दिन होता है, उस वर्ष मकर सक्रांति 14 जनवरी को होती है। चूंकि इस वर्ष सूर्य भारतीय स