पोस्ट

दिसंबर 21, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप भी मुझे सीधे फीडबैक दें : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे

चित्र
हमने आपको रिपोर्ट कार्ड सौंपा आप भी मुझे सीधे फीडबैक दें 21 Dec, 2016 राज्य सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर उदयपुर को 193 करोड़ की सौगात मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे जी ने कहा कि आज जब हम जनता के बीच जाकर पिछले तीन साल में किए गए विकास कार्यां और अच्छे कामों का रिपोर्ट कार्ड पेश कर रहे हैं, आप लोगों का भी फर्ज है कि विकास कार्यां का जो फायदा आमजन को हुआ है लोग हमें चिट्ठी लिखकर बताएं, ताकि हमें सीधा फीडबैक मिले और जो अच्छे फैसले हुए हैं उन्हें और आगे बढ़ाया जा सके। श्रीमती राजे राज्य सरकार के तीन वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर बुधवार को उदयपुर में विभिन्न विकास परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास के बाद गांधी ग्राउण्ड में नसभा को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने करीब 193 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनीति में लोग बडे़-बडे़ वादे करते हैं, लेकिन अपना रिपोर्ट कार्ड नहीं देते। हमने अच्छे काम और उसके ठोस परिणाम की बदौलत तीन साल के कार्यकाल में ही सुराज संकल्प पत्र में जनता से किए 75 प्रतिशत वादे पूरे कर दिखाये हैं। इसीलिए

सिर्फ 1 पर्सेंट भारतीय टैक्स पेय करते हैं: नीति आयोग

चित्र
सिर्फ 1 पर्सेंट भारतीय टैक्स पेय करते हैं: नीति आयोग नई दिल्ली। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि देश की 1.25 अरब की आबादी में से मात्र एक फीसदी ही टैक्स देते हैं। उन्होंने कहा कि देश की 95 प्रतिशत अर्थव्यवस्था कैश में लेनदेन करती है, जिसे देश वहन नहीं कर सकता। एनडीआरएफ द्वारा कैशलेस ट्रांजेक्शन पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कांत ने कहा कि देश की इकनॉमी को वर्ष 2030 तक यदि मौजूदा 2,000 अरब डालर से 10,000 अरब डॉलर पर पहुंचाने का लक्ष्य यदि हासिल करना है तो भारत की 95 प्रतिशत इकनॉमी में ट्रांजेक्शन कैश में स्वीकार्य नहीं है। 26 करोड़ लोग जुड़े हैं पीएमजेडीवाई से अमिताभ  कांत ने कहा कि देश में मोबाइल फोन धारकों की संख्या एक अरब आधार बायोमेट्रिक्स बनाए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि भारत को दुनिया की शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं में पहुंचाने के लिए सरकार ने पहले ही 26 करोड़ लोगों को प्रधानमंत्री जनधन योजना (पीएमजेडीवाई) से जोड़ा है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि हमें कैशलेस ट्रांजेक्शन की ओर बढऩा चाहिए।

बिना पूछताछ के 5000 से ज्यादा के पुराने नोट बैंक में जमा हो सकेंगे

अारबीअाई का यू-टर्न : पुराने नोटों के जमा करने पर लगी रोक हटी By Kishor Joshi Publish Date:Wed, 21 Dec 2016 भारतीय रिजर्व बैंक ने पुराने नोट जमा कराने के नियम में हुए बदलाव को वापस ले लिया है। अब बिना पूछताछ के 5000 से ज्यादा के पुराने नोट बैंक में जमा हो सकेंगे। जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक नए नियम बनाने के साथ ही लागू नियमों को वापस लेने या उनमें संशोधन करने का भी रिकार्ड बना रहा है। इस दिशा में पांच हजार रुपये से ज्यादा नगदी जमा करने पर ग्राहकों से पूछताछ करने और 30 दिसंबर, 2016 तक 5,000 रुपये से ज्यादा सिर्फ एक बार पुराने नोट जमा करने संबंधी दिशानिर्देश को लागू करने के 48 घंटे के भीतर ही वापस ले लिया गया है। सोमवार शाम को यह नियम लागू किया गया और बुधवार दोपहर को वापस ले लिया गया। आम जनता अब 30 दिसंबर तक अपने खाते में मर्जी के मुताबिक पुराने नोट जमा करा सकती है। हां, यह नियम उन बैंक खातों के लिए लागू नहीं होंगे जिनका केवाईसी सत्यापन नहीं किया गया है। वहां 50 हजार रुपये की सीमा लागू रहेगी।वैसे तो यह नियम सिर्फ डेढ़ दिनों तक लागू रहा लेकिन इससे सरकार

धरती की शान तू भारत की सन्तान

चित्र
राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ की शाखाओं में गाया जानें वाला यह गीत हमें अपने पुरूषार्थ की पराक्रम की याद दिलाता है।  - अरविन्द सिसोदिया, जिला महामंत्री भाजपा , कोटा 9414180151  धरती की शान तू भारत की सन्तान तेरी मुठ्ठियों में बन्द तूफ़ान है रे मनुष्य तू बडा महान है भूल मत मनुष्य तू बडा महान् है ॥धृ॥ तू जो चाहे पर्वत पहाडों को फोड दे तू जो चाहे नदीयों के मुख को भी मोड दे तू जो चाहे माटी से अमृत निचोड दे तू जो चाहे धरती को अम्बर से जोड दे अमर तेरे प्राण ---२ मिला तुझको वरदान तेरी आत्मा में स्वयम् भगवान है रे॥१॥ ---मनुष्य तू बडा महान है नयनो से ज्वाल तेरी गती में भूचाल तेरी छाती में छुपा महाकाल है पृथ्वी के लाल तेरा हिमगिरी सा भाल तेरी भृकुटी में तान्डव का ताल है निज को तू जान ---२ जरा शक्ती पहचान तेरी वाणी में युग का आव्हान है रे ॥२॥ ----मनुष्य तू बडा महान् है धरती सा धीर तू है अग्नी सा वीर तू जो चाहे तो काल को भी थाम ले पापोंका प्रलय रुके पशुता का शीश झुके तू जो अगर हिम्मत से काम ले गुरु सा मतिमान् ---२ पवन सा तू गतिमान तेरी नभ से भी उंची उडान है रे ॥३॥ ---मनुष