शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

पांच बच्चों की मां के शाहबानों प्रकरण में महामहिम "राष्ट्रपति" का दर्द सामनें आया




Date: Jan 29 2016

राजीव गांधी चुगली सुनते थे, मैंने धैर्य पर हताशा को हावी होने दिया : प्रणब मुखर्जी


राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अपनी आत्मकथा के दूसरे संस्करण ‘द टरबुलेंट ईयर : 1980-1996’ में किये कई खुलासे, लिखा
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की पुस्तक ‘द टरबुलेंट ईयर : 1980-1996’ का गुरुवार को उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने राष्ट्रपति भवन में विमोचन किया. इसमें इंदिरा गांधी की हत्या, बाबरी मसजिद ढांचे को ढाहे जाने, ऑपरेशन ब्लूस्टार और राजीव गांधी कैबिनेट से उनका निकाला जाना सहित उनके राजनीतिक जीवन की अहम घटनाओं का जिक्र है. इसमें 1980 और 1990 के दशक के उन कुछ यादगार घटनाक्रमों का जिक्र है, जिन्हें आजादी के बाद के भारत के इतिहास में सर्वाधिक कलह पैदा करनेवाला माना जाता है.

मुखर्जी ने राजीव गांधी के पीएम बनने से राष्ट्र नेता के तौर पर पीवी नरसिम्हा राव के उभरने तक हर बड़े राजनीतिक घटनाक्रम पर नये सिरे से प्रकाश डाला है. प्रणब के दूसरे संस्मरण के विमोचन के मौके पर भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, पूर्व कैग विनोद राय, पूर्व केंद्रीय मंत्री करन सिंह सहित अन्य मौजूद थे.

नयी दिल्ली : प्रणब मुखर्जी ने लंबे समय से चली आ रही इन अटकलों को सिरे से खारिज किया है कि इंदिरा गांधी की हत्या के बाद वह अंतरिम प्रधानमंत्री बनना चाहते थे. प्रणब ने इसे ‘गलत और द्वेषपूर्ण’ करार दिया है.

उन्होंने लिखा है, ‘और यह कि इन बातों ने राजीव गांधी के दिमाग में शक पैदा कर दिये. ये कहानियां पूरी तरह गलत और द्वेषपूर्ण हैं.’ उन्होंने विस्तार से बताया है कि पीएम पद के मुद्दे पर उनकी और राजीव गांधी की बातचीत एक बाथरूम में हुई थी. प्रणब ने लिखा है, ‘वक्त बीतता जा रहा था.

मैं उनसे बात करने को लेकर बहुत उत्सुक था. मैं दंपती (राजीव और सोनिया) के पास गया. राजीव के कंधे के पीछे हल्का-सा स्पर्श किया, जिससे मैं उन्हें संकेत दे सकूं कि मुझे उनसे कोई जरूरी काम था. उन्होंने खुद को सोनिया से अलग किया और मुझसे बात करने के लिए पीछे मुड़े.

वह जानते थे कि यदि मामला बहुत जरूरी और गोपनीय नहीं होता, तो मैं उन्हें परेशान नहीं करता. वह तुरंत मुझे उस कमरे से सटे बाथरूम में ले गये, ताकि कमरे में दाखिल होनेवाला कोई और शख्स हमें बात करते नहीं देख सके.’

दोनों नेताओं ने उस वक्त के राजनीतिक हालात और राजीव को प्रधानमंत्री नियुक्त करने के बारे में कांग्रेसजनों की राय पर चर्चा की थी. राजीव प्रधानमंत्री बनने पर सहमत हो गये थे.

प्रणब लिखते हैं, ‘मैं बाथरूम से बाहर आया और राजीव के फैसले से हर किसी को वाकिफ करा दिया.’ पहले राजीव कैबिनेट और फिर कांग्रेस से रुखसत के लिए जिम्मेदार हालात के बारे में प्रणब ने स्वीकार किया है कि वह ‘राजीव की बढ़ती नाखुशी और उनके ईद-गिर्द रहनेवालों के बैर-भाव को भांप गये थे और समय रहते कदम उठाया’.

राष्ट्रपति ने लिखा है, ‘इस सवाल पर कि उन्होंने मुझे कैबिनेट से क्यों हटाया और पार्टी से क्यों निकाला, मैं सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि उन्होंने गलतियां की और मैंने भी की. वह दूसरों की बातों में आ जाते थे और मेरे खिलाफ उनकी चुगलियां सुनते थे. मैंने अपने मेरे धैर्य पर अपनी हताशा हावी हो जाने दी.’ गौरतलब है कि प्रणब को अप्रैल, 1986 में कांग्रेस छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा था. इसके बाद उन्होंने राष्ट्रीय समाजवादी कांग्रेस (आरएससी) पार्टी बनायी थी.

बहरहाल, प्रणब का मानना है कि वह आरएससी बनाने की भूल को टाल सकते थे. उन्होंने लिखा है, ‘मुझमें यह समझदारी होनी चाहिए थी कि मैं जनाधारवाला नेता नहीं था (और न हूं). कांग्रेस को छोड़नेवाले शायद ही कामयाब हुए. 1986 और 1987 के निर्णायक सालों के दौरान जब राजीव के लिए सब कुछ गलत होता दिख रहा था, उस वक्त मैं कांग्रेस पार्टी और सरकार को कुछ मदद कर सकता था.’ प्रणब इसके दो साल बाद कांग्रेस में लौट आये थे.

प्रणब ने लिखा है कि राजीव एक ‘अनिच्छुक राजनेता’ थे, जिन्हें हालात ने 40 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बनने के लिए मजबूर किया था. वह अपने वक्त से आगे के शख्स थे. उन्होंने तेज बदलाव चाहा और कांग्रेस में पुरानी पीढ़ी के नेताओं को अपनी सोच के रास्ते में बाधा के तौर पर देखा.

वह आगे देखनेवाले और तकनीक पसंद थे. उन्होंने बाजार अर्थव्यवस्था को बड़ा करने के साथ-साथ भारत में विदेशी निवेश का भी स्वागत किया. प्रणब ने लिखा है, ‘इसके ठीक उलट, मैं पारंपरिक सोचवाला राजनेता था, जिसने सार्वजनिक क्षेत्र, विनियमित अर्थव्यवस्था को तवज्जो दी और सिर्फ प्रवासी भारतीयों से ही विदेशी निवेश चाहा.’

उन्होंने लिखा है कि इंदिरा गांधी की हत्या के बदले के नाम पर भड़के ‘अत्यंत अनुचित’ सिख-विरोधी दंगों के समय राजीव गांधी सरकार तैयार नहीं दिखी थी. राष्ट्रपति ने लिखा है, ‘हर परिपक्व सरकार के पास ऐसे संकट से निपटने की तैयारी होती है. दुर्भाग्यवश, पूरा राष्ट्र शोक में डूब गया और उपद्रवियों ने हालात का फायदा उठाया. इससे बड़े पैमाने पर जानमाल की हानि हुई.’

----------------

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अपने संस्मरण में बताईं राजीव गांधी की गलतियां, 

पढे़ं 6 प्रमुख बातें

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीम
First Published:29-01-2016

महामहिम राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने गुरुवार को जारी अपने संस्मरण 'द टर्बुलेंट ईयर्स:1980-1996' में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा और राजीव गांधी से जुड़ी कई बातों को सामने रखा है। उन्होंने अयोध्या में रामजन्मभूमि मंदिर का ताला खुलवाना राजीव गांधी का गलत निर्णय बताया है तथा लिखा है कि बाबरी मस्जिद गिराया जाना पूर्ण विश्वासघात था, जिसने भारत की छवि नष्ट कर दी।

राष्ट्रपति मुखर्जी ने अपने इस संस्मरण में भारतीय राजनीति से जुडे़ कई पन्नों को अपने नजरिए के साथ सामने रखा। एक नजर उनके संस्मरण की 6 खास बातों पर-

1- मुखर्जी कहते हैं, बाबरी मस्जिद को गिराया जाना एक पूर्ण विश्वासघाती कृत्य था, एक धार्मिक ढांचे का विध्वंस निरर्थक था और यह पूरी तरह से राजनीतिक उद्देश्यों की पूर्ति के लिए था। इससे भारत और विदेशों में मुस्लिम समुदाय की भावनाओं को गहरा आघात लगा। इसने एक सहिष्णु और बहुलतावादी देश के तौर पर भारत की छवि को नष्ट किया।

2- राष्ट्रपति मुखर्जी ने शाह बानो मामले को याद करते हुए कहा कि राजीव के निर्णय ने एक आधुनिक व्यक्ति के तौर पर उनकी छवि धूमिल की। उन्होंने कहा, शाह बानो और मुस्लिम महिला (तलाक पर अधिकारों का संरक्षण) विधेयक पर राजीव के कदमों की आलोचना हुई और इससे एक आधुनिक व्यक्ति के तौर पर उनकी छवि धूमिल हुई।

पांच बच्चों की मां मुस्लिम महिला शाह बानो को उसके पति ने 1978 में तलाक दे दिया था। उसने एक आपराधिक मुकदमा दर्ज किया, जिस पर उच्चतम न्यायालय ने उसके पक्ष में फैसला सुनाया और उसे अपने पति से गुजारा भत्ते का अधिकार हासिल हुआ। यद्यपि तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने मुस्लिम महिला (तलाक पर अधिकारों का संरक्षण) विधेयक अधिनियमित किया। कानून का सबसे विवादास्पद प्रावधान यह था कि ये एक मुस्लिम महिला को तलाक के बाद इददत की अवधि (करीब तीन महीने) तक गुजारा भत्ते का अधिकार देता है। कानून महिला के गुजारा भत्ते की जिम्मेदारी उसके रिश्तेदारों और वक्फ बोर्ड पर डालता है। कानून को एक भेदभावपूर्ण कानून के तौर पर देखा गया क्योंकि वह एक मुस्लिम महिला को मूलभूत गुजारा भत्ते के अधिकार से वंचित करता है, जिसका अन्य धर्म की महिलाओं को धर्मनिरपेक्ष कानून के तहत सहारा मिलता है।

3- वह कहते हैं कि वी पी सिंह सरकार का सरकारी नौकरियों और केंद्रीय विश्वविद्यालयों में अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण के लिए मंडल आयोग की सिफारिशें लागू करने के निर्णय के चलते सिंह एक मसीहा के तौर पर मशहूर हुए। मुखर्जी ने कहा कि इस कदम ने सामाजिक अन्याय को कम किया लेकिन इसने देश को बांट दिया और उसका ध्रुवीकरण कर दिया।

4- साल 1984 में अमृतसर के स्वर्ण मंदिर से आतंकवादियों के सफाये के लिए चलाए गए ऑपरेशन ब्लू स्टार के बारे में प्रणब ने लिखा है कि इंदिरा गांधी हालात को बखूबी समझती थीं और उनकी सोच बहुत साफ थी कि अब कोई और विकल्प नहीं रह गया है । उन्हें इस बात का अंदाजा था कि उनकी जान जोखिम में है। इसके बाद भी उन्होंने काफी सोच-समझकर देशहित में आगे बढ़ने का फैसला किया। उन्होंने लिखा है कि यह कहना बहुत आसान है कि सैन्य कार्रवाई टाली जा सकती थी। बहरहाल, कोई भी यह बात नहीं जानता  कोई अन्य विकल्प प्रभावी साबित हुआ होता कि नहीं। ऐसे फैसले उस वक्त के हालात के हिसाब से लिए जाते हैं। पंजाब में हालात असामान्य थे। अंधाधुंध कत्लों, आतंकवादी गतिविधियों के लिए धार्मिक स्थलों के गलत इस्तेमाल और भारतीय संघ को तोड़ने की सारी कोशिशों पर लगाम लगाने के लिए तत्काल कार्रवाई जरूरी थी।

5- राष्ट्रपति मुखर्जी ने लंबे समय से चली आ रही इन अटकलों को सिरे से खारिज कर दिया है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद वह अंतरिम प्रधानमंत्री बनना चाहते थे। प्रणब ने इन अटकलों को गलत और द्वेषपूर्ण करार दिया है। प्रणब ने यह भी कहा कि राजीव गांधी कैबिनेट से हटाए जाने पर वह स्तब्ध और अचंभित रह गए थे।

उन्होंने बताया, 'कई कहानियां फैलाई गई हैं कि मैं अंतरिम प्रधानमंत्री बनना चाहता था, मैंने दावेदारी जताई थी और फिर मुझे काफी समझाया-बुझाया गया था।' प्रणब ने लिखा है, और यह कि इन बातों ने राजीव गांधी के दिमाग में शक पैदा कर दिए। ये कहानियां पूरी तरह गलत और द्वेषपूर्ण हैं।
 
6- पहले राजीव कैबिनेट और फिर कांग्रेस से रूखसत के लिए जिम्मेदार हालात के बारे में लिखते हुए प्रणब ने स्वीकार किया है कि वह राजीव की बढ़ती नाखुशी और उनके इर्द-गिर्द रहने वालों के बैर-भाव को भांप गए थे और समय रहते कदम उठाया। राष्ट्रपति ने लिखा है, इस सवाल पर कि उन्होंने मुझे कैबिनेट से क्यों हटाया और पार्टी से क्यों निकाला, मैं सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि उन्होंने गलतियां की और मैंने भी कीं। वह दूसरों की बातों में आ जाते थे और मेरे खिलाफ उनकी चुगलियां सुनते थे। मैंने अपने धैर्य पर अपनी हताशा को हावी हो जाने दिया।

गौरतलब है कि प्रणब को अप्रैल 1986 में कांग्रेस छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा था। इसके बाद उन्होंने राष्ट्रीय समाजवादी कांग्रेस (आरएससी) नाम की पार्टी बनाई थी। वह 1988 में फिर कांग्रेस में लौट आए थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें