पोस्ट

अप्रैल 4, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सानिया देश की मिटटी से धोका

सानिया ने देश की मिटटी के साथ धोका किया हे। जिस मिट्टी से उशका सरीर बना, जिस वायु से उसकी साँस चली , उशी की वह सगी नहीं हुई । जिश की वह मित्री थी उसी से धोका , उसने दश के मान का भी ध्यान नही रखा, वह कपूत हे , देश, परिवार और शहर को निचा दिखाया हे। - अरविन्द सिसोदिया , राधा क्रिशन मंदिर रोड , द्दद्दवारा , कोटा । ०९४१४१ 80151