पोस्ट

मई 30, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

डॉ केतन देसाई,उच्च स्तरीय राजनीती और प्रशासन,चोर-चोर मोसेरे भाई

इमेज
क्या अपने सुना हे की १८०१.५करोड़ रुपया और १.५ टन   स्वर्ण आभूषण किसी पर पकडे गये हें , हाँ, यह अकूत धन दोलत विश्व मेडिकल एसोसिएसन के १८ मई २०१० को बनाने वाले अध्यक्ष डॉ केतन देसाई से पकड़ी गई हे , यही असली चेहरा भारत के उच्च स्तरीय राजनीती और प्रशासन का हे , इतनी कमाई बिना सत्ता को खुश रखे हो ही नही सकती , और पकडे भी इस लिए गये की , कोई न कोई आप से चिड गया था . अब ये तिहाड़ जेल में हें , इनका बड़ा भरी धन बिल्डर के रूप में भी इन्वेस्ट हे ,       यूरोलोजिस्ट   डॉ केतन देसाई के पिता जी मुम्बई में साधारण   शिक्षक थे . देसी ने जो कुछ भी किया वह कांग्रेस में अच्छी पकड़ के द्वारा  ही किया ,  इसमें उनके शातिर दिमाग ने भी बहुत साथ दिया , केतन अपने कॉलेज  के दिनों में युवक कांग्रेस में  बड़े  सक्रिय थे व तत्कालीन मुख्य मंत्री चिमनभाई पटेल के ख़ासम खास थे , वे कब अहमदावाद मेडिकल कोलेज में रेजिडेंस ही थे तब १९८९ में मेडिकल कौंसिल ऑफ़ इंडिया के सदस्य बन गये थे , और कार्यकारी समिति का चुनाव भी लड़ा था , तब से राजनेतिक सहयोग से जो मेडिकल लाइन की की-पोस्ट पर कब्ज़ा किया  तो लगातार एक क्षत्र राज बनाये रखा