पोस्ट

जून 19, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जवाबदेही अमरीकी कंम्पनी यूनियन कार्बाइड की

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया     प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने संकेत दिए हैं कि भोपाल गैस त्रासदी पर केंद्रीय गृह मंत्री पी. चिदंबरम की अध्यक्षता में पुनर्गठित मंत्री समूह (जीओएम) विश्व की सबसे ब़डी इस औद्योगिक भोपाल गैस  त्रासदी के लिए जवाबदेही भी तय कर सकता है।    मगर जवाबदेही तो अमरीकी कंम्पनी यूनियन कार्बाइड कापरेरेशन की ही हे . जब यह हादसा हुआ था , तब एंडरसन ३८ देशों में चल रहे ७०० प्लांटों के मालिक थे . उनकी सीधी पहुच अमरीकी राष्ट्रपति से थी . जब सारी दुनिया से लाभ कमाया जा रहा था तो इस  नुकसान की भरपाई और जबाबदेही भी उन्हें ही उठानी होगी, यह बात दूसरी हे की आप पूर्व केंद्र सरकार की तरह ही अमरीका के सामने पूँझ हिलाने लगे .   .    १- क्यों की कारखाना लगाने  का आवेदन  यूनियन कार्बाइड कारपोरेशन  की अमरीकी कंम्पनी ने किया था . और मुनाफा भी उनने ही कमाया , उनकी लगभग ६० प्रतिशत की हिस्सेदारी थी , नफा खाया हे तो नुकशान भी उन्हें ही चुकाना पड़ेगा . वे दिवालिया हुए बिना कैसे बच सकते हें . उनका कोई लेना देना नही था तो ७ दिसम्बर १९८४ को भोपाल क्यों आये थे . २- - जब फै