पोस्ट

फ़रवरी 3, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

2 G - फिर कभी इस तरह की लूट न हो इस तरह का कदम उठे......

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  फिर कभी इस तरह की लूट न हो इस तरह का कदम उठे...... कांग्रेस और दूरसंचार घोटालों का चोली दामन का साथ है। कांग्रेस की नरसिंहराव सरकार में दूरसंचार मंत्री रहे सुखराम को नोटों के बिस्तर पर पाया गया था और उन्हे भ्रष्टाचार में सजा हुई। अंधा भी यह जान रहा है कि 2 जी आबंटन में जम कर लूट हुई और सरकार ने समर्थन बनाये रखने के लिये इस लूट को होने दिया। यदि हम अन्य उठ रहे सवालों और बातों को मानें तो, सरकार खुद इस लूट में भी शामिल हो गई थी। खैर सर्वोच्च न्यायालय का भला हो कि उसने दूध का दूध और पानी का पानी करते हुये , लायसेस गलत दिये थे यह मान लिया और उन 122 लायसेंसों को रद्द भी कर दिये। सवाल यह है कि इस अवधी में हुई लूट  और सरकारी हानी को भी वसूला जाये...........!!!  http://www.bhaskar.com/article  2जी स्पेक्ट्रम के सभी 122 लाइसेंस रद्द, मुसीबत में ग्राहक! 02/02/2012 नई दिल्ली। सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री ए. राजा के कार्यकाल में आवंटित किए गए दूसरी पीढ़ी (2जी) के स्पेक्ट्रमों के लिए सभी 122 लाइसेंसों को रद्द करते हुए कहा कि मामले में क

सेनाध्यक्ष जनरल वी के सिंह आयु गतिरोध दुर्भावना ग्रस्त - उच्चतम न्यायालय

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया               जनरल वी के सिंह की जन्मतिथि स्कूल प्रमाण-पत्र के आधार पर १० मई, १९५१ है और यही सबसे पुराना साक्ष्य है , इसलिए इसे झुठलाया नहीं जा सकता । मगर सरकार किन निहित स्वार्थों के चलते इसे झुठलाना चाहती है यह समझ से परे है ? किन्तु यह भी कहा गया है की आदर्श सोसायटी घोटाले में सरकार की मदद नहीं करने की सजा दी जा रही है ...! मैं नहीं जनता की सच क्या - झूठ क्या ...मगर सरकार की हठधर्मिता संदेह जरुर पैदा कर रही है । इस लिए मिडिया को यह पता लगाना चाहिए की जनरल और आदर्श सोसायटी की जाँच में कोई हित निहित तो आड़े नहीं आ रहा हे..             सेनाध्यक्ष की जन्मतिथि का यह विवाद सेना रिकार्ड में जनरल की दर्ज दो अलग-अलग जन्मतिथियों के कारण उत्पन्न हुआ  है।सरकारी कर्मचारियों के गैर जिम्मेवाराना व्यव्हार के कर्ण अक्सर इस तरह की त्रुटियाँ हो जातीं हैं , उनकी पुराने साक्ष्यों से पुष्ठी का सुधर लिया जाता है , मगर यहाँ सरकार सुधारना ही नहीं चाहती ! यही वह बात है जो सरकार को कठघरे में खड़ा कर रही है ! सेना की सैन्य सचिव [एमएस] शाखा में उनकी आयु १०  मई, १९५०  दर्ज है जबकि एडजुडेंट जन