पोस्ट

मई 25, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

देश को राजा नहीं, सेवक मिला : नरेंद्र मोदी

इमेज
देश को राजा नहीं, सेवक मिला : नरेंद्र दामोदरदास मोदी  http://www.panchjanya.com वह राजनीतिक नहीं हो सकता! गंगा आरती के जरिए काशी की समस्त जनता का कृतज्ञता ज्ञापन। संसद में प्रवेश से पूर्व सीढि़यों पर मस्तक नवाना। सेंट्रल हॉल में संबोधन के वक्त गले का रुंध जाना!! चूंकि इनमें से कोई भंगिमा विशुद्ध राजनीतिक नहीं इसीलिए राजनेता ज्यादा बौखलाए हुए हैं। राजनीति के बारे में सबसे दिलचस्प बात यही है कि यहां कहे से ज्यादा अनकहे की कीमत होती है। लोग वह समझना चाहते हैं जो बोला ही नहीं गया। खूब बोलने वाले का मौन पढ़ा जा रहा है। संस्कारों का सहज प्रकटीकरणए अपनी सांस्कृतिक पहचान को बेहिचक गले लगाना और भावनात्मक पक्ष की अकस्मात झलक यकीनन यह सब राजनीतिक नहीं हो सकता! और इसी वजह से राजनीतिज्ञ डरे हुए हैं। स्थापित छवि से एकदम उलट। सौम्य, मृदुल, निर्भीक। नरेंद्र दामोदरदास मोदी के व्यक्तित्व का यह पक्ष राजनेताओं की नींद हराम किए है। जो खुलकर भारतीयता को गले लगाता होए अपनी पहचान ना छिपाता हो उसे जनता का ऐसा प्यार-दुलार मिल सकता है! राजनीति के सेकुलर अथवा वामपंथी खेमों ने कभी ऐसी कल्पना भी नहीं की थी

सोमवार से शुरू होगा नरेंद्र मोदी राज : शपथ ग्रहण समारोह सोमवार को

इमेज
सोमवार से शुरू होगा नरेंद्र मोदी राज राष्ट्रपति भवन का विशाल प्रांगण कल शाम उन यादगार लम्हों का साक्षी होगा, जब नरेंद्र मोदी सैकड़ों देशी-विदेशी मेहमानों की मौजूदगी में देश के 15वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण करेंगे। नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह के लिए राष्ट्रपति भवन तैयार http://khabar.ndtv.com नई दिल्ली: भारत के 15 वें प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी का शपथ ग्रहण समारोह, अतिथियों की सूची के लिहाज से राष्ट्रपति भवन में अब तक अयोजित सबसे बड़ा कार्यक्रम होगा, जिसमें दक्षेस देशों के नेताओं सहित 4,000 से अधिक लोग शरीक होंगे। यह पहला अवसर है जब राष्ट्रपति भवन में इतनी अधिक संख्या में लोग जुट रहे हैं, जहां अब तक हुए सबसे बड़े समारोहों, जैसे कि गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर होने वाले 'जलपान कार्यक्रम' में अधिकतम 1500 से 2,000 अतिथि शरीक हुए हैं। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की प्रेस सचिव ओमिता पॉल ने बताया कि 1990 में चंद्रशेखर और 1998 में अटल बिहारी वाजपेयी का शपथ ग्रहण समारोह राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में हुआ था और उनमें 1,200 से 1,300 अतिथि श