पोस्ट

नवंबर 14, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

नोट बंदी : पुनर्निर्माण

इमेज
काले धन की नसबंदी  अंशुमान तिवारी @anshuman1tiwari नई दिल्ली, 12 नवम्बर 2016 | कुछ फैसलों का फैसला समय पर छोड़ देना चाहिए 2016 में एक औसत पढ़ा-लिखा व्यक्ति भी मानेगा कि छोटा परिवार सुखी होता है लेकिन '70 के दशक के शुरुआती वर्षों में जब इंदिरा और संजय गांधी नसबंदी थोप रहे थे, तब तस्वीर शायद नोट बंद होने की अफरातफरी जैसी ही रही होगी. इतिहास ने इंदिरा-संजय को खलनायक दर्ज किया लेकिन परिवार नियोजन जरूरी माना गया. काला धन रोकने के लिए अर्थव्यवस्था को कुछ समय के लिए विकलांग बना देने के फैसले पर अंतिम निर्णय तो समय को देना है लेकिन फिलहाल यह फैसला बिखराव और अराजकता से भरपूर है, हालांकि इसी कोलाहल में पुनर्निर्माण के संकेत भी मिल जाते हैं. फिलहाल भारत किसी वित्तीय आपदा या बैंकों की तबाही से प्रभावित देश (हाल में ग्रीस) की तरह नजर आने लगा है, जहां बैंक व एटीएम बंद हैं, लंबी कतारे हैं और लोग सीमित मात्रा में नकद लेने और खर्च करने को मजबूर हैं. ऐसे मुल्क में जहां बहुत बड़ी अर्थव्यवस्था नकदी पर चलती हो, 50 फीसदी वयस्क लोगों का बैंकों से कोई लेना-देना न हो और बड़े नोट नकद विनिमय मे

जरूरी सेवाओं में 24 नवम्बर तक चलेंगे 500-1000 के नोट

इमेज
अब जरूरी सेवाओं में 24 नवम्बर तक चलेंगे 500-1000 के नोट,  ATM से कैश निकालने की लिमिट भी बढ़ी  aajtak.in [Edited By: अंजलि कर्मकार, नई दिल्ली, 14 नवम्बर 2016 |       500 और 1000 के नोट बंद किए जाने के बाद सरकार ने लोगों को बड़ी राहत दी है. सरकार ने पुराने नोटों की वैधता 10 दिन और बढ़ा दी है. अब अस्पतालों, मेट्रो स्टेशनों, शमशान घाट, दवा की दुकानों, पेट्रोल पंपों में 24 नवंबर तक 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट स्वीकार किए जाएंगे. समीक्षा बैठक में लिया गया फैसला एएनआई की खबर के मुताबिक, रविवार को पीएम मोदी ने नोटबंदी के बाद आर्थिक मामलों पर समीक्षा बैठक बुलाई थी. इसके बाद ये फैसला लिया गया. समीक्षा बैठक के बाद आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने कहा कि सभी अस्पतालों, पेट्रोल पंपों, रेलवे स्टेशनों और हवाई अड्डों पर 500 और 1000 के पुराने नोट चलने की समय सीमा 14 नवंबर से बढ़ाकर 24 नंवबर तक कर दी गई है. 24 नवंबर तक सभी नेशनल टोल फ्री शक्तिकांत दास ने बताया कि देश के सभी टोल पर 24 नवंबर तक कोई टैक्स भी नहीं लिया जाएगा. बिजली और पानी के बिल जैसे केंद्र सरकार, राज्य सरकार द

घोटाला करने वाले ही , मोदी जी के खिलाफ हो रहे हैं एकजुट !

इमेज
भाजपा ने विपक्ष पर बोला हमला, कहा- घोटाला करने वाले मोदी के खिलाफ हो रहे हैं एकजुट ब्यूरो/ अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 14 Nov 2016 कालाधन के खिलाफ अभियान के नाम पर मोदी सरकार के 500 और 1000 के नोट को प्रचलन से हटाने के कारण लोगों को हो समस्या पर विपक्ष के हमले पर भाजपा ने पलटवार किया है। पार्टी ने कहा है कि अपने शासनकाल में जम कर घोटाला करने वाले दलों के नेताओं को कालाधन, हवाला रैकेट और आतंकवाद के खिलाफ छेड़े गए मोदी सरकार का अभियान रास नहीं आ रहा। पार्टी प्रवक्ता सिद्घार्थ नाथ सिंह ने दावा किया कि मोदी सरकार के इस फैसले से विपक्ष बुरी तरह हिल गया है। यही कारण है कि इस फैसले को लोगों से मिल रहे भरपूर समर्थन की अनदेखी कर विपक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अनाप शनाप आरोप लगा रहा है। सिंह ने कहा कि विरोध करने वाले वही लोग हैं जिनके शासनकाल में कई घपलों के जरिए जनता की गाढ़ी कमाई लूट ली गई। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के आरोपों पर पलटवार करते हुए उन्होंने कहा कि दरअसल उन्हें नारद घोटाला मामले की चिंता सता रही है। सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री का