पोस्ट

जून 27, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

महान वीरांगना दुर्गावती

इमेज
महान वीरांगना महारानी दुर्गावती  ने , देश की अस्मिता और स्वतंत्रता के लिए लड़ा था महा संग्राम - अरविन्द सिसोदिया चंदेलों कि बेटी थी , गोंडवाने  कि रानी , चंडी थी-रणचंडी थी , वह दुर्गावती भवानी  थी . भारत की नारियों ने देश की अस्मिता और स्वतंत्रता के लिए हमेशा ही यशस्वी  योगदान दिया है । महारानी दुर्गावती , मध्यप्रदेश की विलुप्त ऎतिहासिक धरोहर की महान यशोगाथा हे , वे  साहस और पराक्रम रहीं . . उनकी वीर गाथा महारानी लक्ष्मी बाई जितनी  प्रसिद्ध नही हुई , मगर  उनका वीरोचित व्यवहार लक्ष्मी बाई से कम नही था .य़ू तो दो महान बिभुतियों में तुलना नही की जाती ,  यह विवाद का प्रश्न भी नही हे कि किसको प्रशिधि अधिक मिली और किसको नही मिला . लक्ष्मी बाई को प्रसिधी का एक कारण  जबलपुर कि ही बहू सुभद्रा कुमारी चोहान कि  झाँसी की रानी कविता को भी जाता हे  , चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।। जिसने उनकी यशोगाथा  को शिखर तक पहुचाया हे . उनकी सडक दुर्घटना में निधन होने से , बहु