पोस्ट

जून 30, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सरकार सामूहिक विवाह सम्मेलनों को सहयोग करें

इमेज
सामूहिक विवाह सम्मेलनों को सरकार , कर्तव्य और उत्सव के रूप में  आयोजित  करे . - अरविन्द सिसोदिया   यूँ तो आवश्यकता अविष्कार कि जननी होती हे , सामूहिक विवाह सम्मलेन भी इसी  कि उपज हे . सरकार के स्तर पर सामूहिक विवाह सम्मेलनों को सहयोग कि बात मुझे जहाँ तक ध्यान आती हे वह नाम भैंरो सिंह शेखावत  का आता  हे वे राजस्थान  के मुख्यमंत्री थे . जनता को सरकारी खजाने से पैसा मिलने का काम भी १९७७ में आई जनता सरकार से ही प्रारंभ हुआ हे , उससे पहले तो सरकार जनता से पैसा लेना ही जानती थी . देना नही जानती थी . बड़ती महंगाई  के कारण जातीय पंचायतों और संगठनों ने कुछ धन वर-वधु के आभिभाव्कों से और कुछ धन समाज के सम्पन्न लोगों से लेकर  यह कार्य प्रारंभ किया था जो बहुत ही तेजी से सम्पूर्ण समाज में फैल गया . पिछड़ी जातियों और गरिवों के नाम पर बाद में सरकारें भी जुडी  .     - सामूहिक   विवाह सम्मलेन को प्रोत्सहान   देने कि आवश्यकता हे , सरकारी सहयोग राशी भी बडानी चाहिए , इन्हें लोकप्रिय और व्यवहारिक बनने के लिए जिला पंचायतों को ही आगे करना चाहिए . केंद्र  सरकार को भी योगदान देना चाहिए , इसमें कमियां खो