पोस्ट

मई 10, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पत्रकारिता के आदि पुरूष देवर्षि नारद

चित्र
पत्रकारिता के आदि पुरूष देवर्षि नारद मृत्‍युंजय दीक्षित http://asbmassindia.blogspot.in/2011/07/blog-post_1868.html सृष्टिकर्ता प्रजापति ब्रह्मा के मानस पुत्र नारद। त्रिकालदर्शी पुरूष नारद देव, दानव और मानव सभी के कार्यों में सहायक देवर्षि नारद। देवर्षि नारद एक ऐसे महान व्यक्तित्व के स्वामी व सांसारिक घटनाओं के ज्ञाता थे कि उनके परिणामों तक से भी वे भली भांति परिचित होते थे। वे शत्रु तथा मित्र दोनों में ही लोकप्रिय थे। आनन्द, भक्ति, विनम्रता, ज्ञान, कौशल के कारण उन्हें देवर्षि की पद्वि प्राप्त थी। ईश्वर भक्ति की स्थापना तथा प्रचार-प्रसार के लिए ही नारद जी का अवतार हुआ। देवर्षि नारद व्यास वाल्मीकि और शुकदेव जी के गुरू रहे। श्रीमद्भागवत एवं रामायण जैसे अत्यंत पवित्र व अदभुत ग्रन्थ हमें नारद जी की कृपा से ही प्राप्त हुए हैं। प्रहलाद, ध्रुव और राजा अम्बरीश जैसे महान व्यक्तित्वों को नारद जी ने ही भक्ति मार्ग पर चलने की प्रेरणा दी। देव नारद ब्रहमा, शंकर, सनत कुमार, महर्षि कपिल, स्वायम्भुव मनु आदि 12 आचार्यों में अन्यतम हैं। वराह पुराण में देवर्षि नारद को पूर्व जन्म में सारस्वत् नामक

नारद मुनि : ब्रह्मा के मानस पुत्र

चित्र
नारद मुनि हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, ब्रह्मा के सात मानस पुत्रों में से एक माने गये हैं। ये भगवान विष्णु के अनन्य भक्तों में से एक माने जाते है। ये स्वयं वैष्णव हैं और वैष्णवों के परमाचार्य तथा मार्गदर्शक हैं। ये प्रत्येक युग में भगवान की भक्ति और उनकी महिमा का विस्तार करते हुए लोक-कल्याण के लिए सर्वदा सर्वत्र विचरण किया करते हैं। भक्ति तथा संकीर्तन के ये आद्य-आचार्य हैं। इनकी वीणा भगवन जप 'महती' के नाम से विख्यात है। उससे 'नारायण-नारायण' की ध्वनि निकलती रहती है। इनकी गति अव्याहत है। ये ब्रह्म-मुहूर्त में सभी जीवों की गति देखते हैं और अजर–अमर हैं। भगवद-भक्ति की स्थापना तथा प्रचार के लिए ही इनका आविर्भाव हुआ है। उन्होंने कठिन तपस्या से ब्रह्मर्षि पद प्राप्त किया है। देवर्षि नारद धर्म के प्रचार तथा लोक-कल्याण हेतु सदैव प्रयत्नशील रहते हैं। इसी कारण सभी युगों में, सब लोकों में, समस्त विद्याओं में, समाज के सभी वर्गो में नारदजी का सदा से प्रवेश रहा है। मात्र देवताओं ने ही नहीं, वरन् दानवों ने भी उन्हें सदैव आदर दिया है। समय-समय पर सभी ने उनसे परामर्श लिया है। &quo

पादरी द्वारा यौन उत्पीड़न के पीड़ितों ने की पोप से अपील

चित्र
पादरी द्वारा यौन उत्पीड़न के पीड़ितों ने की पोप से अपील वेटिकन सिटी, एजेंसी10-05-2014 http://www.livehindustan.com/news/videsh/international/article1-father-sexual-assault-pop-francise-vatican-2-2-423820.html पादरी द्वारा कथित यौन उत्पीड़न के शिकार हुए इतालवी पीड़ितों ने न्याय के लिए सीधे पोप फ्रांसिस से गुहार लगाई और वेटिकन के परिसर में ही उपजी इस समस्या की जांच के लिए जांच आयोग के गठन की मांग की है।       ऑनलाइन पोस्ट किए गए पत्र और एक वीडियो में 17 पीड़ितों ने इतालवी कैथोलिक चर्च और वेटिकन द्वारा अपने साथ किए गए आचरण की निंदा की है।       इन लोगों में से आधे लोग वेरोना में बधिरों के उस कुख्यात स्कूल के पूर्व विद्यार्थी हैं, जिसके बारे में समझा जाता है कि वहां दो दजर्न पादरियों और धर्म के पैरोकारों ने कथित तौर पर वर्षों तक सैकड़ों बच्चों का यौन उत्पीड़न किया।       इटली में सबसे ज्यादा सक्रिय संगठनों में से एक अब्यूज नेटवर्क ने कहा कि उसने इस वीडियो संदेश की एक प्रति वेटिकन के विदेश उपमंत्री मोनसिग्नर एंजेलो बेकियू को भेजी है। वेटिकन की ओर से इस संदेश पर कल तक कोई टिप्