पोस्ट

अप्रैल 13, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अम्बेडकर जी पर अडवानी जी के विचार

चित्र
अम्बेडकर जयन्ती के अवसर पर महू में आयोजित समारोह में श्री आडवाणी जी के भाषण के लिए कुछ बिन्दु भारतीय जनता पार्टी |  Sunday, 13 April 2008  http://www.lkadvani.in/hin/content/view/518/280/ ----- आज अम्बेडकर जयन्ती है। मैं डॉ0 अम्बेडकर की जयन्ती पर उनके जन्म स्थान पर आकर अपने को धन्य मानता हूं। भारत में किसी महान आत्मा के महानिर्वाण अथवा उनकी जन्मभूमि की एक पवित्र स्थान के रूप में यात्रा करने की हमारी एक प्राचीन और श्रध्दामयी परम्परा रही है। भारत में तीन स्थान ऐसे हैं जो इस महामानव के जीवन से जुड़कर पवित्र बन गये हैं। पहला महू है जो डॉ0 अम्बेडकर की जन्मस्थली है। दूसरा नागपुर में दीक्षा भूमि है जहां डॉ0 अम्बेडकर ने अपने हजारों अनुयायियों के साथ बौध्दधर्म को अपनाया। तीसरा मुम्बई में दादर बीच पर चैत्य भूमि है जहां उनकी समाधि बनाई गई है। तीन तीर्थ स्थान मेरे अनुसार, सभी तीनों स्थान- जन्मभूमि ,  दीक्षाभूमि  और  चैत्यभूमि -तीर्थ स्थानों के रूप में माने जाने के योग्य है। इन तीनों स्थानों में महू को उतना राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय महत्व नहीं मिला है जितना कि अन्य दो स्थानों को। इसलिए मै

स्वामी अग्निवेश कौन ..?

चित्र
By: ShreshthBharat Real Face Of 'Anti Sanatan Swami' आइये जाने स्वामी अग्निवेश को नोट: हम भ्रष्टाचार के आन्दोलन में अन्ना हजारे के साथ है, पहले से ही जुड़ें हुए है, और यह मानते है की देश की सभी समस्याओ में सबसे पहली समस्या भ्रष्टाचार है ..... -------------------------- आइये जाने क्यूँ नफरत करते है राष्ट्रवादी ,स्वामी अग्निवेश से और क्यों प्रेम करते है अग्निवेश मुस्लिमों, माओवादियों और ईसाइयों से ? जिस किसी भाई को लगता है की यह ढोंगी विवेकानंद जी का अवतार है तो यह बात मन से पूर्ण तय निकाल देंवे क्योंकि इसकी मानसिकता और आर्य समाज की मानसिकता में आकाश पाताळ का अंतर है सच तो यह है की यह आर्य समाजी नहीं हैइसने स्वयं ही एक संस्था बनाई है "World council of Arya Samaj" शायद उद्देश्य मुल्लो और ईसाई मिशनरियों की मदद करने के लिए, क्योंकि यह विवेकानंद जी के जैसे भगवे वस्त्र पहन कर के लोगो को गुमराह कर रहा है आप स्वयं आर्य समाज की वेबसाइट में देख सकते है की यह अध्यक्ष नहीं है ....इसने अतीत में हरियाणा के शिक्षा मंत्री का पद ग्रहण किया हुआ है तो इसके सन्यासी होने का प्रश्न

भारतीय आध्यात्म के अंतर्ज्ञानी : मोहन जी गालव

चित्र
भारतीय आध्यात्म के अंतर्ज्ञानी  मोहन जी गालव  ग्राम कोयला , तहसील एवं जिला बारां ( राजस्थान ) ० ९४१३११६७१०       ०९९२८२५६९५६