रविवार, 22 दिसंबर 2013

महागर्जना रैली: नरेंद्र मोदी ने मराठी में 'कांग्रेस मुक्‍त भारत' का नारा

देश की आर्थिक राजधानी में  नरेंद्र मोदी ने कहा, 'कांग्रेस की नीति की विशेषता बांटो और राज्य करो की है, वह इस नीति में माहिर है. उसने पानी के लिए देश में लड़ाई करवाई. कांग्रेस वोट बैंक की राजनीति में डूबी हुई है.' अंग्रेजों के खिलाफ लड़ते-लड़ते कांग्रेस ने उनसे काफी कुछ सीख हासिल की. उसने भाषा को भाषा से लड़ाया, प्रांत को प्रांत से लड़ाया और नदियों के पानी के लिए राज्यों को लड़ाया.

महागर्जना रैली: नरेंद्र मोदी ने मराठी में 'कांग्रेस मुक्‍त भारत' का नारा
dainikbhaskar.com   |  Dec 22, 2013
http://www.bhaskar.com
मुंबई. भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी ने 'महागर्जना रैली' में मराठी में भाषण की शुरुआत की। उन्‍होंने छत्रपति शिवाजी और बाबा साहेब अंबेडकर का नाम लेने के बाद मराठी में ही 'कांग्रेस मुक्‍त भारत' का नारा दिया।

मोदी ने राहुल गांधी का नाम लिए बगैर कहा कि शनिवार को मैंने कांग्रेस के एक बड़े नेता को सुना। इनकी हिम्‍मत तो देखो, एक तरफ तो भ्रष्‍टाचारी नेताओं को महाराष्‍ट्र सरकार बचाती है और दूसरी ओर दिल्‍ली में उनके नेता भ्रष्‍टाचार के खिलाफ बड़ी-बड़ी बातें करते हैं।

मोदी ने कांग्रेस को सारी समस्‍याओं की जड़ बताते हुए कहा कि 'कांग्रेस मुक्‍त भारत' का सपना हमें साकार करना होगा। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस वोट बैंक की राजनीति में डूबी हुई है। अंग्रेजों के साथ लड़ते-लड़ते कांग्रेस ने सीख लिया- 'डिवाइड एंड रूल'। मोदी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने आजादी के बाद देश के टुकड़े किए। सरदार पटेल जब देश को एकजुट कर रहे थे, तब कांग्रेस भाई को भाई से लड़ा रही थी।

मोदी ने भाजपा सरकारों की तारीफ करते हुए कहा कि हमने विकास का मंत्र दिया है। उन्‍होंने कहा- मैं गुजरात की चर्चा नहीं करूंगा, क्‍योंकि इससे बहुत से लोगों के पेट में दर्द हो जाता है, इसलिए मध्‍य प्रदेश की बात करते हैं। कांग्रेस के शासन में मध्‍य प्रदेश बीमारू राज्‍य था, लेकिन शिवराज सिंह चौहान ने इस राज्‍य को हर-भरा बना दिया। मोदी ने महाराष्‍ट्र का जिक्र करते हुए कहा कि अगर यहां भाजपा की सरकार की होती तो इस प्रदेश का किसान आत्‍महत्‍या नहीं करता।

मोदी रैली में आई भीड़ का जिक्र करते हुए कहा कि ऐसा दृश्‍य पहले कभी देखने को नहीं मिला। उन्‍होंने कहा कि जहां तक नजर पहुंच रही है, माथे ही माथे नजर आ रहे हैं। भाजपा 'महागर्जना रैली' में करीब 10 लाख लोगों के जुटने की बात कही है। मोदी ने मुंबई को गुजरातियों का दूसरा घर बताते हुए कहा कि महाराष्‍ट्र हमारा बड़ा भाई है और गुजरात छोटा भाई है।

इससे पहले मुंबई पहुंचकर मोदी ने अपनी मोम की मूर्ति का अनावरण किया और इसके साथ तस्वीरें भी खिंचवाईं। बांद्रा-कुर्ला कॉम्‍प्‍लेक्‍स (एमएमआरडीए ग्राउंड) में मोदी से पहले गोपीनाथ मुंडे, राजीव प्रताप रूडी और नितिन गडकरी और पार्टी अध्‍यक्ष राजनाथ सिंह ने भाषण दिया।

गोपीनाथ मुंडे ने विरोधियों पर चुटकी लेते हुए कहा कि लोग कह रहे हैं कि मोदी के नाम की लहर चल रही है, लेकिन यह लहर नहीं सुनामी है। मुंडे ने मोदी की तुलना सचिन तेंदुलकर से भी की।

मोदी की रैली को लेकर कांग्रेस में हलचल है। यही कारण है कि कांग्रेस पार्टी जल्‍द से जल्‍द मुंबई में सोनिया गांधी की रैली आयोजित करने जा रही है। पार्टी के स्‍थानीय नेताओं का कहना है कि सोनिया गांधी की रैली जनवरी में हो सकती है। कांग्रेस कार्यकर्ता इस रैली की तैयारियों में अभी से जुट गए हैं।

2009 लोकसभा चुनाव में भाजपा-शिवसेना गठबंधन मुंबई की सभी छह लोकसभा सीटों पर हार गया था। भाजपा-शिवसेना को सबसे ज्‍यादा नुकसान राज ठाकरे की पार्टी महाराष्‍ट्र नव निर्माण सेना (एमएनएस) ने पहुंचाया था। 'महागर्जना' रैली में पूरे महाराष्‍ट्र से लोगों को बुलाया जा रहा है। बीजेपी नेताओं का दावा है कि रैली में करीब पांच लाख लोग जुट रहे हैं। रैली स्‍थल तक लोगों को लाने के लिए 22 ट्रेनों स्‍पेशल ट्रेन लगाई गईं।

मुंबई रैली में महाराष्‍ट्र ही नहीं, बल्कि आसपास के राज्‍यों से भी लोगों को बुलाया गया। मोदी के रणनीतिकार लोकसभा चुनाव में महाराष्‍ट्र पर विशेष ध्‍यान दे रहे हैं। इस राज्‍य में 48 लोकसभा सीटें हैं और यह उन गिने-चुने राज्‍यों में एक है, जहां पर कांग्रेस आज भी मजबूत स्थिति में हैं।
-------------------

'कांग्रेस मुक्त भारत' का सपना जरूर होगा पूरा: मोदी
ibnkhabar.com | Dec 22, 2013
http://khabar.ibnlive.in.com/news/113743/12
मुंबई। भारतीय जनता पार्टी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की रैलियों का सिलसिला जारी है। दो दिन पहले उत्तर प्रदेश के वाराणसी में बड़ी रैली के बाद मोदी की आज मुंबई में महागर्जना रैली हो रही है। प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद मुंबई में मोदी की पहली रैली है। रैली स्थल पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा है। रैली में 10 हजार चायवालों को भी बुलाया गया है।
मोदी का कांग्रेस पर हमला
नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में कांग्रेस और उसकी सरकार पर जमकर हमला बोला। मोदी ने कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी वोट वैंक की राजनीति में डूबी हुई है। कांग्रेस ने बांटों और राज करों की नीति अंग्रेजों से सीखी है। वोट बैंक की राजनीति खत्म किए बिना और विकास की राजनीति शुरू किए बिना देश की समस्याओं का हल नहीं होगा। बीजेपी विकास की राजनीति करती है। हमारे पिछड़ेपन के लिए कांग्रेस ही जिम्मेदार है। देश को कांग्रेस मुक्त करने का हमारा सपना एक दिन जरूर पूरा होगा।
मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने मध्य प्रदेश को बीमारू राज्य बना दिया था। लेकिन शिवराज सिंह चौहान इसे विकास के रास्ते पर लाए। महाराष्ट्र में किसानों को आत्महत्या करने पर मजबूर होना पड़ रहा है। अगर बीजेपी की सरकार होती तो ये नौबत नहीं आती। मेरा किसान सुखी होता, संपन्न होता। कांग्रेस को विकास की राजनीति में भरोसा नहीं है। राज्य और दिल्ली में कांग्रेस की सरकार है, लेकिन जब ये लोग भाषण करते हैं तो लगता है कि ये लोग किसी और की सरकार, किसी और देश के बारे में बोल रहे हैं।
मोदी ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भी कांग्रेस को घेरा। मोदी ने कहा कि कांग्रेस के लोग भ्रष्टाचार के खिलाफ भाषण दे रहे हैं। इनकी हिम्मत तो देखिए। भ्रष्टाचार में डूबे लोग भ्रष्टाचार के खिलाफ बात कह रहे हैं। एक तरफ तो आदर्श घोटाले में महाराष्ट्र सरकार आरोपियों को बचाने का काम करती है और उसी समय उनका एक नेता दिल्ली में भ्रष्टाचार के खिलाफ भाषण दे रहा है।
कांग्रेस की पूरी जिंदगी संप्रदायवाद में बीती है। संप्रदायवाद कांग्रेस की परंपरा रही है। मनमोहन सिंह सरकार ने जहां मुस्लिम अधिक हों, ऐसे 90 जिले छांटे, बड़ा बजट घोषित किया। मुसलमान भाइयों को लगने लगा कि कुछ भला होगा। अखबारों में आया, बड़ी वाहवाही लूटी। जब पूछा गया कि अल्पसंख्यकों को क्या लाभ हुआ, तो पार्लियामेंट में खुलासा हुई कि इनमें से एक रुपया भी खर्च नहीं हुआ है।
राजनाथ ने किया गुणगान
मोदी के भाषण से पहले पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने कांग्रेस पर हमला बोला और मोदी का जमकर गुणगान किया। राजनाथ ने कहा कि नरेंद्र मोदी के हाथों अटल बिहारी वाजपेई ने जादू की छड़ी दे दी है। नरेंद्र मोदी सबसे लोकप्रिय नेता हैं। लोग चाहते हैं कि मोदी जी को भारत का प्रधानमंत्री बनाया जाए। नरेंद्र मोदी जी प्रधानमंत्री बनेंगे और जो भारत को सुपरपावर बनाना चाहते हैं वो जरूर बनाएंगे।
राज्य सरकार और कांग्रेस पर हमला बोलते हुए राजनाथ ने कहा कि महाराष्ट्र की सरकार ने कितने घोटाले किए हैं। आदर्श घोटाला कैंपा कोला सोसाइटी घोटाला। जांच आयोग ने आदर्श घोटाले पर अपनी रिपोर्ट दे दी लेकिन उसको इन्होंने खारिज कर दिया। अगर बीजेपी की सरकार बनती है जो जो घोटाले महाराष्ट्र में हुए हैं, उसको खोलेंगे।
कांग्रेस पर हमला बोलते हुए राजनाथ ने कहा कि गरीबी निरंतर बढ़ती जा रही है। कांग्रेस गरीबों का मज़ाक बनाती है। महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है। हमारे मोदी जी को कहते हैं कि चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री कैसे बन सकता है।
बीजेपी का दावा है कि इस रैली में कम से कम 5 लाख लोग शामिल होंगे। रैली के लिए पार्टी ने 12 हजार गाड़ियों की व्यवस्था की है। इसके अलावा 21 ट्रेनों से लोग आए हैं। मोदी को सुनने के लिए मुंबई का एमएमआरडीए मैदान खचाखच भर गया है। मंच पर बीजेपी नेताओं का जमावड़ा लगा हुआ है तो सामने भारी भीड़ जमी हुई है।
इससे पहले आज सुबह नरेंद्र मोदी मुंबई पहुंचे और अपनी मोम प्रतिमा का अनावरण किया। उनके साथ पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह भी थे। रैली स्थल पर हर जगह मोदी और राजनाथ के बड़े-बड़े होर्डिंग लगे हुए हैं। हालांकि अटल विहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी पोस्टरों से गायब हैं।
10 हजार चायवालों को बुलावा
खास बात ये है कि मोदी की इस रैली के लिए 10000 चायवालों को भी बुलावा मिला है। ये इस मायने में खास है क्योंकि एक समय मोदी भी चाय बेचते थे और आज बीजेपी के पीएम उम्मीदवार के मुकाम तक पहुंचे हैं। बता दें कि मुंबई में बीजेपी-शिवसेना पूरी तरह साफ है और यहां की सभी 6 लोकसभा सीटों पर कांग्रेस-एनसीपी का कब्जा है। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी के लिए ये 6 सीटें बेहद अहम हैं।
मोदी की इस रैली में अमेरिकी राजदूत को बुलाया गया था। लेकिन राजनयिक देवयानी खोबरागड़े विवाद के बाद बीजेपी ने भेजा गया निमंत्रण वापस ले लिया है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भारत को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। जिस तरह का व्यवहार दे देवयानी के साथ किया गया उस तरह का व्यवहार किसी अमेरिकी के साथ होता तो उनका रिएक्शन क्या होता।
सुरक्षा के कड़े इंतजाम
नरेंद्र मोदी की रैली के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। रैली की सुरक्षा में तीन हजार पुलिस के जवान और अधिकारी तैनात रहेंगे। नरेंद्र मोदी की सुरक्षा सात घेरों की होगी। आतंकी हमले के खतरे को देखते हुए पुलिस ने एंटी टेरेरिस्ट स्क्वॉड को भी सतर्क कर दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें