पोस्ट

दिसंबर 31, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आपातकाल बाद दूसरा टर्निग पॉइंट हैं विधानसभा चुनाव : आडवाणी

चित्र
2013 के चुनाव परिणाम आपातकाल बाद दूसरा टर्निग पॉइंट हैं विधानसभा चुनाव : आडवाणी  Saturday, December 14, 2013, Read more at: http://hindi.oneindia.in/news/bhopal/assembly-elections-2013-are-like-emergency-lal-krishan-advani-277211.html भोपाल। भाजपा के वरिष्‍ठ नेता लाल कृष्‍ण आडवाणी ने मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के शपथ ग्रहण समारोह में कहा कि विधानसभा चुनाव 2013 देश की राजनीति का दूसरा टर्निंग प्‍वाइंट हैं जबकि पहला टर्निंग प्‍वाइंट आपातकाल के बाद हुए चुनाव थे। उन्‍होने उम्‍मीद जताई है कि आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का सफाया हो जाएगा क्‍योंकि देश की जनता कांग्रेस की न‍ीतियों के खिलाफ है। उन्‍होने कहा कि आपातकाल के बाद देश में पहली गैर कांग्रेसी सरकार बनी थी तब सभी दलों ने मिलकर कांग्रेस के खिलाफ चुनाव लड़ा था। आडवाणी ने उम्‍मीद जताई कि विधानसभा में जो चुनाव परिणाम आये हैं उनका असर लोकसभा के चुनाव में भी पड़ेगा। गौर हो कि आठ दिसंबर को घोषित हुए चुनाव नतीजों में तीन राज्‍यों में भाजपा को बहुमत मिल गया है जबकि दिल्‍ली में भाजपा को 32 सीटें मिली और पार्टी सर

अंग्रेजी केलेण्डर की कहानी

चित्र
अंग्रेजी केलेण्डर की कहानी  Baba Ramdev दुनिया का लगभग प्रत्येक कैलेण्डर सर्दी के बाद बसंत ऋतू से ही प्रारम्भ होता है , यहाँ तक की ईस्वी सन बाला कैलेण्डर ( जो आजकल प्रचलन में है ) वो भी मार्च से प्रारम्भ होना था . इस कलेंडर को बनाने में कोई नयी खगोलीये गणना करने के बजाये सीधे से भारतीय कैलेण्डर ( विक्रम संवत ) में से ही उठा लिया गया था . आइये जाने क्या है इस कैलेण्डर का इतिहास - ------------------------------------------------------------------------------------------------ दुनिया में सबसे पहले तारो, ग्रहों, नक्षत्रो आदि को समझने का सफल प्रयास भारत में ही हुआ था, तारो , ग्रहों , नक्षत्रो , चाँद , सूरज ,...... आदि की गति को समझने के बाद भारत के महान खगोल शास्त्रीयो ने भारतीय कलेंडर ( विक्रम संवत ) तैयार किया , इसके महत्त्व को उस समय सारी दुनिया ने समझा . भारतीय महीनों के नाम जिस महीने की पूर्णिमा  जिस नक्षत्र में पड़ती है उसी के नाम पर पड़ा। जैसे इस महीने की पूर्णिमा चित्रा नक्षत्र में हैं इस लिए इसे चैत्र महीनें का नाम हुआ। श्रीमद भागवत के द्वादश स्कन्ध के द्वितीय अध्याय के अनुस

भारतीयाें का कमाल, बैतूल में हाइवे सड़क पर उतरा हवाई जहाज

चित्र
भारतीयाें का कमाल  बैतूल में हाइवे सड़क पर उतरा  हवाई जहाज टीम डिजिटल/ मंगलवार, 31 दिसंबर 2013 / अमर उजाला, भोपाल मध्‍यप्रदेश के बैतूल में एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया। मंगलवार सुबह खराब मौसम की वजह से हाइवे पर प्लेन की इमरजेंसी लैडिंग करानी पड़ी। जानकारी के अनुसार अप्रवासी भारतीय सेम वर्मा का प्लेन पायलट कैप्टन जेकब द्वारा शहर में भ्रमण के बाद उतारा जा रहा था। लेकिन हवाई पट्टी पर हवा का दबाव अधिक होने से उसे इमरजेंसी में हवाई पट्टी के नजदीक बने फोरलेन हाईवे पर प्लेन की लैडिंग करना पड़ी। जानकारी लगते ही बैतूल बाजार पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। बताया गया कि हाइवे पर प्लेन उतरने के बाद खराब हो गया। सुबह लगभग 8 .30 बजे से 11 बजे तक प्लेन फोरलेन पर ही खड़ा रहा। जिसकी वजह से दूसरे तरफ से ट्रैफिक निकालना पड़ा। पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है। विमान की इमरजेंसी लैंडिंग कराने में पायलट की सूझबूझ और हौसला काबिले तारीफ रहा। पायलट ने बहुत ही समझदारी से काम लेते हुए हवाई जहाज को सड़क पर उतारा। लैंडिंग के बाद नजारा देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग जुट गए।

हिन्दुत्व विशाल है

चित्र
Anshu Nawada https://www.facebook.com/anshu786?hc_location=timeline जिस हिन्दू ने नभ मे जाकर नक्षत्रो को दी है संज्ञा । जिसने हिमगिरि का वक्ष चीर ,भू को दी है पावन गंगा ।। जिसने सागर की छाती पर पाषाणो को तैराया है ।। हर वर्तमान की पीङा को हर ,जिसने इतिहास बतनाया है । जिसके आर्यों ने जयघोष किया कृण्वंतो विश्वमार्यम का । जिसका गौरव कम कर न सकी, रावण की स्वर्णमयी लंका ।। जिसके यज्ञों का एक हव्य, सौ-सौ पुत्रों का जनक रहा । जिसके आँगन में भयाक्रांत धनपति बरसाता कनक रहा ।। जिसके पावन बलिष्ठ तन की रचना तन दे दधीचि ने की । राघव ने वन मे भटक भटक ,जिस तन मे प्राण प्रतिष्ठा की ।। जौहर कुंडों में कूद-कूद, सतियों ने जिसे दिया सत्व । गुरुओं-गुरुपुत्रों ने जिसमें चिर बलिदानी भर दिया तत्व ।। वह शाश्वत हिन्दू जीवन क्या स्मरणीय मात्र रह जाएगा ? इसकी पावन गंगा का जल क्या नालो मे बह जाऐगा ?? इसके गंगाधर शिव शंकर क्या ले समाधि सो जाएंगे ? इसके पुष्कर इसके प्रयाग क्या गर्त मात्र हो जाएंगे ?? यदि तुम ऐसा नही चाहते ,तो फिर तुमको जगना होगा । हिन्दूराष्ट्र का बिगुल बजाकर ,दानव दल को दलना होगा ।।