पोस्ट

जनवरी 8, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

चुप्पी साधे रहे आप पार्टी के विधायक - अमर उजाला

इमेज
चुप्पी साधे रहे आप पार्टी के विधायक - अमर उजाला ये कैसे लोग चुनकर आये है ? विधानसभा के पांच दिवसीय सत्र में आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक महज दर्शक बने रहे। विश्वास मत के दौरान ‘आप’ को 77 मिनट का समय मिला था, एक मिनट भी इस्तेमाल नहीं किया। अंतिम दिन उपराज्यपाल के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के लिए ‘आप’ के हिस्से में 300 मिनट में से 120 मिनट थे।लेकिन ‘आप’ का कोई विधायक बोलने के लिए खड़ा नहीं हुआ। धन्यवाद प्रस्ताव पर विपक्ष और कांग्रेस के ही डेढ़ दर्जन से अधिक विधायकों ने अपनी बात रखी। क्या यही है केजरीवाल का व्यवस्था परिवर्तन कि बोलो मत !