पोस्ट

दिसंबर 17, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

क्या सिंधुनदी सभ्यता परमाणु विध्वंस से नष्ट हुई ?

इमेज
द्वारा - हिंदुत्व जिंदाबाद था जिंदाबाद हैं और जिंदाबाद रहेगा आधुनिक भारत में अंग्रेजों के समय से जो इतिहास पढाया जाता है वह चन्द्रगुप्त मौर्य के वंश से आरम्भ होता है। उस से पूर्व के इतिहास को ‘ प्रमाण-रहित’ कह कर नकार दिया जाता है। हमारे ‘देसी अंग्रेजों’ को यदि सर जान मार्शल प्रमाणित नहीं करते तो हमारे ’बुद्धिजीवियों’ को विशवास ही नहीं होना था कि हडप्पा और मोइन जोदडो स्थल ईसा से लग भग 5000 वर्ष पूर्व के समय के हैं और वहाँ पर ही विश्व की प्रथम सभ्यता ने जन्म लिया था। विदेशी इतिहासकारों के उल्लेख विश्व की प्राचीनतम् सिन्धु घाटी सभ्यता मोइन जोदडो के बारे में पाये गये उल्लेखों को सुलझाने के प्रयत्न अभी भी चल रहे हैं। जब पुरातत्व शास्त्रियों ने पिछली शताब्दी में मोइन जोदडो स्थल की खुदाई के अवशेषों का निरीक्षण किया था तो उन्हों ने देखा कि वहाँ की गलियों में नर-कंकाल पडे थे। कई अस्थि पिंजर चित अवस्था में लेटे थे और कई अस्थि पिंजरों ने एक दूसरे के हाथ इस तरह पकड रखे थे मानों किसी विपत्ति नें उन्हें अचानक उस अवस्था में पहुँचा दिया था। उन नर कंकालों पर उसी प्रकार की रेडियो -ऐक्टीविट

हार्ट अटैक.......सहज सुलभ उपाय ...!

इमेज
नोट - ये अपने पर आजमाएं नहीं , यह एक जानकारी है । डॉक्टर की दवाओं और उसकी देख रेख में ही इसे आजमाएं , अन्यथा हानी भी हो सकती है । हार्ट अटैक: ना घबराये ......!!! सहज सुलभ उपाय .... 99 प्रतिशत ब्लॉकेज को भी रिमूव कर देता है पीपल का पत्ता.... पीपल के 15 पत्ते लें जो कोमल गुलाबी कोंपलें न हों, बल्कि पत्ते हरे, कोमल व भली प्रकार विकसित हों। प्रत्येक का ऊपर व नीचे का कुछ भाग कैंची से काटकर अलग कर दें। पत्ते का बीच का भाग पानी से साफ कर लें। इन्हें एक गिलास पानी में धीमी आँच पर पकने दें। जब पानी उबलकर एक तिहाई रह जाए तब ठंडा होने पर साफ कपड़े से छान लें और उसे ठंडे स्थान पर रख दें, दवा तैयार। इस काढ़े की तीन खुराकें बनाकर प्रत्येक तीन घंटे बाद प्रातः लें। हार्ट अटैक के बाद कुछ समय हो जाने के पश्चात लगातार पंद्रह दिन तक इसे लेने से हृदय पुनः स्वस्थ हो जाता है और फिर दिल का दौरा पड़ने की संभावना नहीं रहती। दिल के रोगी इस नुस्खे का एक बार प्रयोग अवश्य करें। * पीपल के पत्ते में दिल को बल और शांति देने की अद्भुत क्षमता है। * इस पीपल के काढ़े की तीन खुराकें सवेरे 8 बजे, 11 बजे व 2 बजे ली जा सकत

भारतीय राजनयिक के अपमान पर कड़ा रुख

इमेज
अमरीकियों का व्यवहार हमेशा ही गैर इसाईयों के प्रति अमानवीय, क्रूर और घ्रणास्पद स्वरूप में सामने आता रहा है फिर भी हम लगातार उनकी गुलामी में लगे रहते हैं। देवयानी के अपमान पर भड़का भारत,  यूएस राजयनिकों से वापस मांगे आई कार्ड Tue, 17 Dec 2013 नई दिल्ली। अमेरिका में भारतीय राजनयिक के अपमान पर कड़ा रुख अपनाते हुए भारत ने देश में स्थिति सभी अमेरिकी राजनयिकों से आई कार्ड लौटाने को कहा है। इस बीच, गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने भी विरोध स्वरूप वरिष्ठ अमेरिकी कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के साथ आज होने वाली बैठक को रद्द कर दिया। अमेरिका में भारतीय राजनयिक की गिरफ्तारी की घटना का असर दोनों देशों के रिश्तों पर दिखने लगा है। इससे पहले घटना के विरोध स्वरूप लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने भारत दौरे पर आए वरिष्ठ अमेरिकी सांसदों के प्रतिनिधिमंडल के साथ अपनी प्रस्तावित मुलाकात को रद्द कर दिया। बताते हैं कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन भी इसी वजह से अमेरिकी सांसदों से नहीं मिले। न्यूयॉर्क में तैनात भारत की उप महावाणिज्य दूत देवयानी खोबरागडे को अपनी नौकरानी के वीजा आवेदन में धोखाधड़ी करने के

नाम जोडऩे की प्रक्रिया शुरू : लोकसभा चुनावों के लिए बनेगी नई मतदाता सूचियां

इमेज
लोकसभा चुनावों के लिए बनेगी नई मतदाता सूचियां नाम जोडऩे की प्रक्रिया शुरू , मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने दिए आदेश कोटा / विधानसभा चुनाव समाप्त होने के साथ ही अब निर्वाचन विभाग की ओर से लोकसभा चुनावों की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। इसके लिए नामांकन सूचियों में नाम जोडऩे की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सोमवार को मुख्य निर्वाचन अधिकारी अशोक जैन ने सभी जिला कलेक्टरों को इसके लिए वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से निर्देश भी जारी किए। निर्वाचन विभाग के अनुसार लोकसभा चुनावों में कोई भी मतदाता मतदान से वंचित नहीं रहे। इसे ध्यान में रखते हुए 16 से 31 दिसंबर तक मतदाता सूची नवीनीकरण अभियान शुरू किया गया है। इसमें मतदाता सूचियों के प्रारूप का अवलोकन कर इसमें नाम जोडऩे, हटाने सहित आवश्यक संशोधन कराए जा सकेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी के अनुसार 1 जनवरी-2014 को 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने वाले युवा मतदाता सूची में अपना नाम जुड़वा सकेंगे। मौजूदा मतदाता सूचियों के संबंध में दावे एवं आपत्तियां 31 दिसंबर तक प्रस्तुत की जा सकती हैं। उन्होंने बताया कि विधानसभा चुनावों में किसी कारणवश जिन यो