पोस्ट

दिसंबर 22, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

शक्तिशाली भारत के निर्माण के लिए वोट फॉर इंडिया - नरेंद्र मोदी

इमेज
मुंबई में मोदी की महागर्जना रैली, लोकसभा चुनाव के लिए दिया नारा- वोट फॉर इंडिया आज तक वेब ब्‍यूरो [Edited By: स्‍वपनल सोनल] | मुंबई, 22 दिसम्बर 2013 http://aajtak.intoday.in/story/modi-rally-in-mumbai-1-750192.html बीजेपी के पीएम पद के उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी ने रविवार को मुंबई में 'महागर्जना रैली' की. अपनी हर रैली की तरह जहां उन्‍होंने कांग्रेस के वंशवाद और भ्रष्‍टाचार की दुहाई दी, वहीं जाते-जाते वह मंच से लोकसभा चुनाव के लिए आम जन को 'वोट फॉर इंडिया' का महामंत्र दे गए. सुराज के लिए वोट फॉर इंडिया. भ्रष्‍टाचार से मुक्ति के लिए वोट फॉर इंडिया. शक्तिशाली भारत के निर्माण के लिए वोट फॉर इंडिया. भाषण की शुरुआत से ही मोदी ने सौम्‍य-आक्रामकता के साथ महाराष्‍ट्र और गुजरात के बहाने प्रदेश्‍ा और केंद्र की कांग्रेस सरकार को आड़े हाथों लिया. वहीं, अंत तक आते-आते उन्‍होंने जन-जन को वीआईपी बताते हुए कांग्रेस मुक्‍त भारत का सपना दिखाया. उन्‍होंने कहा, 'मुझे पूरी उम्‍मीद है कि आज एक ऐतिहासिक घटना को साकार करने के लिए उपस्थित मुंबई के लोग जी-जान से कोशिश करेंगे और अभ

महागर्जना रैली: नरेंद्र मोदी ने मराठी में 'कांग्रेस मुक्‍त भारत' का नारा

देश की आर्थिक राजधानी में  नरेंद्र मोदी ने कहा, 'कांग्रेस की नीति की विशेषता बांटो और राज्य करो की है, वह इस नीति में माहिर है. उसने पानी के लिए देश में लड़ाई करवाई. कांग्रेस वोट बैंक की राजनीति में डूबी हुई है.' अंग्रेजों के खिलाफ लड़ते-लड़ते कांग्रेस ने उनसे काफी कुछ सीख हासिल की. उसने भाषा को भाषा से लड़ाया, प्रांत को प्रांत से लड़ाया और नदियों के पानी के लिए राज्यों को लड़ाया. महागर्जना रैली: नरेंद्र मोदी ने मराठी में 'कांग्रेस मुक्‍त भारत' का नारा dainikbhaskar.com   |  Dec 22, 2013 http://www.bhaskar.com मुंबई. भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी ने 'महागर्जना रैली' में मराठी में भाषण की शुरुआत की। उन्‍होंने छत्रपति शिवाजी और बाबा साहेब अंबेडकर का नाम लेने के बाद मराठी में ही 'कांग्रेस मुक्‍त भारत' का नारा दिया। मोदी ने राहुल गांधी का नाम लिए बगैर कहा कि शनिवार को मैंने कांग्रेस के एक बड़े नेता को सुना। इनकी हिम्‍मत तो देखो, एक तरफ तो भ्रष्‍टाचारी नेताओं को महाराष्‍ट्र सरकार बचाती है और दूसरी ओर दिल्‍ली में उनके