पोस्ट

नवंबर 11, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हिन्दुओं का मनोबल तोड़ने की साजिश - भागवत

इमेज
- अरविन्द सीसोदिया    संघ का देशव्यापी विरोध प्रदर्शन और धरना  बुधवार, १० नवंबर २०१० |  देश में राष्ट्रीय  स्वयंसेवक  संघ  का नाम आतंकवाद के साथ जोड़ने की सुनियोजित साजिश चलाए जाने का दावा करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने बुधवार को देशव्यापी विरोध प्रदर्शन आयोजित ‍किये । संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि हिन्दुओं का मनोबल तोड़ने की साजिश रची जा रही है।  लखनऊ में विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे सरसंघचालक मोहन भागवत ने संगठन का नाम आतंकवाद के साथ जोड़े जाने की कोशिशों को hindoo समाज का मनोबल तोड़ने की एक सोची-समझी साजिश करार देते हुए कहा कि इन तमाम आरोपों के बीच संघ, कानून और जनता की नजर में और  प्रखर होकर निकलेगा।    सरसंघचालक ने आतंकवाद से जुड़ी कुछ घटनाओं के मामले में हिरासत में लिए गए लोगों को संघ से जोड़ने के प्रयासों की कठोर शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि संघ अब ऐसे प्रयासों पर चुप नहीं रहेगा।  संघ प्रमुख ने कहा कि जब-जब दिल्ली की सत्ता डोलने लगती है तब-तब संघ पर हमला किया जाता है। आज फिर उन्हीं हालात में छलकपट से संघ के साथ आतंकवादी शब्द चिपकाने की कोशिश की जा रही है।  अजमे

हिन्दू अपमान नहीं सहेंगे, संघ की चेतावनी..!

इमेज
- अरविन्द सीसोदिया देश में विगत ४० वर्षों वाद राष्ट्रीय  स्वंयसेवक संघ , जन आन्दोलन के रूप में सीधे तौर पर सड़कों पर उतरा  है..! उसके दो बड़े कारण बनें कि  " एकतो सोची समझी साजिस के तहत हिन्दू आतंकवाद , भगवा आतंकवाद नाम चलाया गया...!  शैनें शैनें से इस आतंकवाद  को संघ से जोड़ने की चालें चलीं गई..!! इसी क्रम में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, देवेन्द्र गुप्ता और इन्द्रेश कुमार जी इत्यादी नामों पर आरोप जड करके, संघ की घेरा बंदी करना...! और फिर बिना किसी सबूत के संघ को सिमी से जोड़ देना ..! जिस संघ के ८५ वर्षों के सफ़र में एक भी घटना उसके विरुद्ध कभी साबित  नहीं हुई...! वह एक इस तरह का विशिष्ट संगठन है जो गणतंत्र दिवस की परेड में नेहरु जी के आमन्त्रण पर सम्मिलित हुआ था | " " दूसरा एक सुनियोजित तरीके से चर्च प्रेरित धरमांतरण उद्देश्यों हेतु .., सरकार स्तर से   हिन्दू आस्थाओं पर ,  हिन्दू मान्यताओं पर, हिन्दूधर्म स्थलों पर , हिन्दू मान बिन्दुओं पर , आक्रमण हुए.., जैसे श्रीराम को ही काल्पनिक व्यक्ती बताने वाला शपथ पत्र केंद्र सरकार ने न्यायालय  में दाखिल कर दिया.., अमरनाथ यात्रा को भ