पोस्ट

नवंबर 29, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भोपाल गैस त्रासदी वरसी : दोषी कौन ...? ज्यादा कुछ नहीं सिर्फ सात सवाल ..!

इमेज
- अरविन्द सीसोदिया भोपाल गैस त्रासदी की वरसी  .   ज्यादा कुछ नहीं सिर्फ सात सवाल ..... १.अमेरिका का जहरीला कारखाना भोपाल रेलवे स्टेशन के पास खोलने की अनुमति किसने दी ? भारत सरकार और मध्यप्रदेश सरकार ने ही..... २.एंडरसन को भारत से अमेरिका भागने में किसने मदद की ? भारत सरकार और मध्यप्रदेश सरकार ने ही..... ३.भोपाल गैस त्रासदी के जिम्मेदार लोग कोन है अमेरिका ? भारत सरकार और मध्यप्रदेश सरकार ने ही.... . ४.२५ हज़ार निर्दोस लोगो की मौत के जिम्मेदार लोगो को २५ साल बाद भी केवल २ साल की सजा वो भी जमानत पर रिहा, मतलब सजा तो हुई नहीं क्या ये ब्रिटेन या अमेरिका में हो सकता है नहीं लेकिन भारत में हुआ है. इसे करने वाले कौन हैं ...? भारत सरकार के कानून से चलने वाला न्यायालय.. ... ५. भोपाल के ९ लाख लोगों के जीवन से खेलने वाला कौन ..? भारत सरकार और मध्यप्रदेश सरकार ने ही..... ६. भोपाल के ५ लाख ६० लोगों के जीवन के साथ हुए खतरनाक अत्याचार को ठीकसे.., गिनने , संभालने और उनके दुखः को प्रस्तुत करने में लापरवाह कौन ... ..? जनता को मौत के मुहं  में छोड़ कर चुनाव प्रचार में रत रहने वाले असंवेदनशील कौ

विकिलीक्स : अमरीका का सच सामने आना चाहिए...

विकिलीक्स को लेकर अमरीका में फिर हड़कम्प - अरविन्द सीसोदिया     अमेरिका सच का सामना करने घबरा रहा है .., यही नही दुनिया के बहुतसे देश इस तरह के सच से घाबरते हैं .., क्यों कि यह तो कहने की बातें हैं कि हम यह हैं..! मगर जो हम हैं वह बहुतसी बातें छुपी रहती हैं...! पूरी दुनिया को अपने हितों के हिसाब से चलाने के लिए अमरीका ने सब कुछ किया ..! जापान के दो शहरों पर परमाणु बम गिरा कर लाखों लोगों को मौत के मुंह में धकेलने के अमानवीय कार्य में भी वह संलग्न रहा ..!  मेरी व्यक्तीगत मान्यता यही है कि आज विश्व में सर्वाधिक अमानवीय और क्रूर देश अमरीका है ..! उसका सच सामने आना चाहिए..! भारतवासी उस सच को  समझें और हित - अहित को तौल कर अपना फैसला लें..!! --- विकिलीक्स वेबसाइट के नए संभावित रहस्योदघाटन को लेकर अमरीका में बौखलाहट  है। अमरीका ने भारत सहित अपने वर्त्तमान कुछ घटक देशों को चेतावनी दी है कि इस रहस्योदघाटन के बाद उनके द्विपक्षीय संबंधों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकते हैं। ( भला क्यों..? आपने जरुर कुछ गलत किया होगा )   एसे समाचार मिल रहे हैं कि विकिलीक्स जल्द ही 40 लाख पृष्ठों के गोपनीय दस्तावे