संदेश

जुलाई 31, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

राष्ट्र प्रथम-सदैव प्रथम, रिफ्लेक्ट करने वाली भावना होनी चाहिए - प्रधानमंत्री मोदी

चित्र
  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आपको हमेशा ये याद रखना है कि आप एक भारत, श्रेष्ठ भारत के भी ध्वजवाहक है। इसलिए, आपके हर एक्शन, आपकी हर गतिविधि में Nation First, Always First- राष्ट्र प्रथम, सदैव प्रथम इसी भावना को रिफ्लेक्ट करने वाली होनी चाहिए। PM Narendra Modi का ट्रेनी IPS अफसरों से संवाद, कहा- युवा लीडरशिप देश को बढ़ाएगी आगे PM Modi Interacts With IPS Probationers: पीएम मोदी ने आईपीएस ट्रेनी से कहा कि नेशन फर्स्ट की पॉलिसी को अपनाएं. कोई भी फैसला लें तो उसमें देशहित का ध्यान जरूर रखें. नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने आज (शनिवार को) ट्रेनी आईपीएस अफसरों (IPS Probationers) से संवाद किया. प्रधानमंत्री ने ट्रेनी आईपीएस अफसरों से कई सवाल पूछे और उनसे सुझाव मांगे. प्रधानमंत्री ने ट्रेनी आईपीएस अफसरों से कहा कि आपकी युवा लीडरशिप देश को आगे बढ़ाएगी. देश के काम आती है अफसरों की पढ़ाई बता दें कि इन आईपीएस अफसरों की ट्रेनिंग सरदार वल्लभभाई पटेल नेशनल पुलिस एकेडमी, नई दिल्ली में हुई है. प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने कहा कि अफसरों की पढ़ाई देश की सेवा में काम आती है. पुलिस

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा हमारा

चित्र
    सारे जहाँ से अच्छा  या तराना-ए-हिन्दी उर्दू भाषा में लिखी गई देशप्रेम की एक ग़ज़ल है जो भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान ब्रिटिश राज के विरोध का प्रतीक बनी और जिसे आज भी देश-भक्ति के गीत के रूप में भारत में गाया जाता है।  इस गीत को प्रसिद्ध शायर मुहम्मद इक़बाल ने १९०५ में लिखा था और सबसे पहले सरकारी कालेज, लाहौर में पढ़कर सुनाया था। यह इक़बाल की रचना बंग-ए-दारा में शामिल है। उस समय इक़बाल लाहौर के सरकारी कालेज में व्याख्याता थे। उन्हें लाला हरदयाल ने एक सम्मेलन की अध्यक्षता करने का निमंत्रण दिया। इक़बाल ने भाषण देने के बजाय यह ग़ज़ल पूरी उमंग से गाकर सुनाई। यह ग़ज़ल हिन्दुस्तान की तारीफ़ में लिखी गई है और अलग-अलग सम्प्रदायों के लोगों के बीच भाई-चारे की भावना बढ़ाने को प्रोत्साहित करती है। १९५० के दशक में सितार-वादक पण्डित रवि शंकर ने इसे सुर-बद्ध किया। जब इंदिरा गांधी ने भारत के प्रथम अंतरिक्षयात्री राकेश शर्मा से पूछा कि अंतरिक्ष से भारत कैसा दिखता है, तो शर्मा ने इस गीत की पहली पंक्ति कही। सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा हम बुलबुलें हैं इस की ये गुलसिताँ हमारा ग़ुर्बत में

प्रधानमंत्री मोदी - “आपके विचार लाल किले की प्राचीर से गूंजेंगे।

चित्र
  पीएम मोदी ने देश के युवाओं से कहा है कि आपके विचार लाल किले से गूजेंगे। 15 अगस्त को अपने स्वतंत्रता दिवस   भाषण के लिए विचारों और सुझावों का आह्वान करते हुए उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “आपके विचार लाल किले की प्राचीर से गूंजेंगे। ... Your thoughts will reverberate from the ramparts of the Red Fort      Share Your Ideas and Suggestions for PM Shri Narendra Modi’s Independence Day Speech On 15th August every year, the Prime Minister speaks from the ramparts of the Red Fort and lays out the government's programmes and policies. Over the last few years, the Hon’ble Prime Minister has directly invited ideas and suggestions from citizens for the Independence Day Speech. Similarly, this year too the Prime Minister invites citizens to contribute their inputs for New India. So, now you have the opportunity to tell your ideas, give word to your suggestions and crystallize your vision. PM Narendra Modi will pick up some of the ideas in his speech on 15th August.     प्रधानमंत्री मोदी के स्वतंत्