पोस्ट

दिसंबर 17, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Porn racket : 112 arrested in European online child porn racket

इमेज
112 arrested in European online child porn racket London, Dec 16 (IANS) At least 112 people were Friday arrested in a massive police operation against online child pornography in 22 European countries, a media report said. The suspects were arrested for allegedly sharing online videos of children being sexually abused and raped, said the Daily Mail. 'So far we have identified 269 suspects with 112 arrests,' said Rob Wainwright, director of policing agency Europol in The Hague. 'The operation targeted those sharing the most extreme forms of video material, which included babies and toddlers being sexually abused and raped. A lot of the material seized during house searches is awaiting forensic examination in order to support follow-up investigations and possible prosecution of offenders,' he said. In March, police in several countries rescued 230 children. Europol described that operation as 'the biggest case of its kind'. The criminal network at one p

विदेशों में देश की गाढी कमाई , देश के गद्दार हैं या देश के नेता

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  कालेधन की कहानी कब प्रारम्भ हुई पता नहीं...., मगर यह तब तूफान बन गई.., जब राजीव गांधी की केन्द्र सरकार को जनता ने बोर्फोस मामले में दलाली खाने के आरोप में सत्ता से बाहर कर दिया। तब यह सब जान गये कि विदेशों में देश की गाढी कमाई भी छुपाई जाती है। कोई भी देशहित की चिन्तक सरकार होती तो देश का धन देश में ले आती.., मगर देश और जनता को अपनी बपौती समझने वाली राजनीति ने सभी मर्यादाओं और नैतिकताओं को अंगूठा बताते हुये । हमेशा ही यह काला  धन विदेशों में ही बना रहे इस तरह की कोशिशें की। अब प्रश्न यह है कि ये लोग देश के गद्दार हैं या देश के नेता हैं।......... ---------- बहस काला धन पर श्वेत पत्र कनक तिवारी लिक :-  http://raviwar.com अब सेवानिवृत्त लेकिन बहुचर्चित न्यायाधीश डॉ. सुदर्शन रेड्डी की अध्यक्षता वाली द्विसदस्यीय खंडपीठ ने सुरिन्दर सिंह निज्जर सहित सुप्रीम कोर्ट का एक और ऐतिहासिक फैसला 5 जुलाई 2011 को सुनाया. एक अरसे से चल रही काला धन संबंधी राष्ट्रीय चिन्ता को सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से मिटाने में एक महत्वपूर्ण दिशा मिली है. देश के कुछ ख्यातनाम व्यक्तियों राम जेठ

कालेधन पर सरकार काली...

इमेज
. - अरविन्द सीसौदिया,कोटा,राजस्थान । लोकसभा चुनावों में भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणीजी ने यह पुरजोर मामला उठाया था। बाद में बाबा रामदेव ने भी इसे अपना अभियान बनाया।सबसे पहले विदेशों में काला धन झुपाने का मामला बोफोर्स तोप खरीद मामले में तत्कालीन प्रधान मंत्री राजीव गांधी का आया  था , सोनिया जी के निकटस्थ क्वात्रोच्ची  के माध्यम से , तब से ही विदेशों में जमा काले धन को सरकार अस्वीकार करती रही हे.., अब तब दुनिया यह सच जन चुकी हे कि टेक्स चोरी कर धन झुपाने कि सुविधा  देने वाले  देशों में भारत का बहुत अधिक धन झुपा है |  मगर तब भी बेशर्मी से सरकार सब कुछ छुपाती रही, जैसे कि यह काला धन उसका खुद का हो !!!! अब सरकार के वित्तमंत्री प्रणव मुखर्जी नें स्वंय स्विकार किया है कि 700 लोगों के खाते विदेशों में हैं, उनके नाम सार्वजनिक नहीं किये जा सकते...!! समझ से परे बात है कि देश के गद्दारों के नाम उजागर नहीं किये जा सकते क्या मतलब ? http://www.bhaskar.com दैनिक  भास्कर का संपादकीय.. काले धन पर श्वेत पत्र लाने का वादा ज्यादा भरोसा बंधाता, अगर सरकार लगे हाथ यह भी बता देती कि वह देश के सामने यह