पोस्ट

दिसंबर 23, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मौत का खेल बंद हो ... : चिकित्सक हड़ताल में ११ मौतें

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  मौत का खेल बंद हो ... राजस्थान में चिकित्सक हड़ताल में ११ मौतें हो चुकी हें .., हजारों लोग बेहाल हें ,हड़ताल अभी ही जरी हे.., डोक्टर हड़ताल का यह तरिका अमान्य होना चाहिए ..इन्हें हड़ताल का कोई और मानवीय तरीका अपनाना चाहिए..जिस में मरीज की मौत  भी न हो और मांगें भी मानली जाएँ  ...लोगों  को तकलीफ भी न हो और विरोध दर्ज हो जाये ...! जिस  व्यक्ति के कारण किसी की मौत होती हो वह हत्यारा कहा जाता हे ...जिस व्यक्ति के कारण किसी को दुःख पहुँचता हे वह अपराधी कहलाता हे ! डाक्टर भगवान के दर्जे को प्राप्त करते हे .. उन्हें यह शोभा नहीं देता की वे जल्लाद बनें ....... -------- http://www.bhaskar.com जयपुर . सेवारत डॉक्टरों और रेजीडेंट डॉक्टरों की हड़ताल शुक्रवार को भी जारी है। प्रदेश में चिकित्सा व्यवस्था चरमरा गई है। इलाज के अभाव में दम तोड़ देने वाले मरीजों की तादाद बढ़कर 11 हो गई है। सभी जिला प्रशासनों को अलर्ट किया गया है। मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने हड़ताली डॉक्‍टरों से काम पर लौटने की अपील की है।   गुरुवार को ही आठ मरीजों ने दम तोड़ दिया था। हड़ताल से परेशान मरीज अब हिं

राष्ट्र की जय चेतना का गान वंदे मातरम्

इमेज
वंदे मातरम् राष्ट्र की जय चेतना का गान वंदे मातरम् राष्ट्रभक्ति प्रेरणा का गान वंदे मातरम् बंसी के बहते स्वरोंका प्राण वंदे मातरम् झल्लरि झनकार झनके नाद वंदे मातरम् शंख के संघोष का संदेश वंदे मातरम् ॥१॥ सृष्टी बीज मंत्र का है मर्म वंदे मातरम् राम के वनवास का है काव्य वंदे मातरम् दिव्य गीता ज्ञान का संगीत वंदे मातरम् ॥२॥ हल्दिघाटी के कणोमे व्याप्त वंदे मातरम् दिव्य जौहर ज्वाल का है तेज वंदे मातरम् वीरोंके बलिदान का हूंकार वंदे मातरम् ॥३॥ जनजन के हर कंठ का हो गान वंदे मातरम् अरिदल थरथर कांपे सुनकर नाद वंदे मातरम् वीर पुत्रोकी अमर ललकार वंदे मातरम् ॥४॥ English Transliteration   rāṣṭra kī jaya cetanā kā gāna vaṁde mātaram rāṣṭrabhakti preraṇā kā gāna vaṁde mātaram baṁsī ke bahate svaroṁkā prāṇa vaṁde mātaram jhallari jhanakāra jhanake nāda vaṁde mātaram śaṁkha ke saṁghoṣa kā saṁdeśa vaṁde mātaram ||1|| sṛṣṭī bīja maṁtra kā hai marma vaṁde mātaram rāma ke vanavāsa kā hai kāvya vaṁde mātaram divya gītā jñāna kā saṁgīta vaṁde mātaram ||2|| haldighāṭī ke kaṇome vyāpta vaṁd