गुरुवार, 24 अक्तूबर 2013

पद्मश्री मन्ना डे के निधन से एक युग का अंत



बेंगलूर में ही होगा मन्ना डे का अंतिम संस्कार
http://www.jagran.com/entertainment/bollywood-legendary-singer-manna-dey-dead-10817004.html

                                                       ऐ मेरी जोहरा जबीं (फिल्म- वक्त)
24 Oct 2013
मन्ना डे के निधन से एक युग का अंत हो गया है। मन्ना डे को 1971 में पद्मश्री और 2005 में पद्म विभूषण से नवाजा जा चुका है। 2007 में उन्हें प्रतिष्ठित दादा साहब फाल्के पुरस्कार प्रदान किया गया। मन्ना डे ने यूं तो बॉलीवुड में हजारों गाने गाए। लेकिन उनके गाए दस गीत ऐसे हैं जिन्हें हमेशा से याद किया जाता रहा है।

बेंगलूर। मन्ना डे का अंतिम संस्कार बेंगलूर में ही होगा। उनके परिवार ने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की उनका शव कोलकाता लाकर अंतिम संस्कार करने की अपील ठुकरा दी है। मन्ना का पैतृक घर भी कोलकाता में हैं और उनका जन्म भी इसी शहर में हुआ था।
गुजरे दौर के मशहूर गायक मन्ना डे का बुधवार देर रात करीब साढ़े तीन बजे बेंगलूर में निधन हो गया था। आज दोपहर को 2 बजे उनका अंतिम संस्कार कर दिया जाएगा। वह 94 वर्ष के थे। उन्हें छाती में संक्रमण की शिकायत के बाद इस वर्ष जून में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने हिंदी फिल्मों के साथ बांग्ला और अन्य भाषाओं में लगभग चार हजार से ज्यादा गाने गाए। बॉलीवुड में कई बड़े दिग्गजों के ऊपर उनके गाए गाने फिल्माए गए और वह काफी हिट भी हुए। बलराज साहनी, राजकपूर, प्राण, राजेश खन्ना, अमिताभ बच्च्न समेत कई बड़े अभिनेताओं के ऊपर मन्ना डे के गाए गीतों को फिल्माया गया।
 मन्ना डे पिछले काफी वर्षो से बीमार चल रहे थे। उनका बेंगलूर में इलाज चल रहा था। दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित मन्ना डे उन गायकों में रहे, जिनकी एक समय बॉलीवुड में तूती बोलती थी। जब तक वह बॉलीवुड से जुड़े रहे उनका सितारा हमेशा ही बुलंदी पर रहा।

पचास और साठ के दशक में अगर हिंदी फिल्मों में राग पर आधारित कोई गाना होता, तो उसके लिए संगीतकारों की पहली पसंद मन्ना डे ही होते थे। उनके 94 वें जन्मदिन पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने उनसे मुलाकात की उन्हें मुबारकबाद दी थी। बॉलीवुड में हरफनमौला गायक कहे जाने वाले मन्ना डे के निधन से एक युग का अंत हो गया है। मन्ना डे को 1971 में पद्मश्री और 2005 में पद्म विभूषण से नवाजा जा चुका है। 2007 में उन्हें प्रतिष्ठित दादा साहब फाल्के पुरस्कार प्रदान किया गया।

-मन्ना डे के बिखरे मोती

मन्ना डे ने यूं तो बॉलीवुड में हजारों गाने गाए। लेकिन उनके गाए दस गीत ऐसे हैं जिन्हें हमेशा से याद किया जाता रहा है।

1. जिंदगी कैसी है पहेली (फिल्म- आनंद)

2. एक चतुर नार करके श्रृंगार (फिल्म- पड़ोसन)

3. लागा चुनरी में दाग (फिल्म- दिल ही तो है)

4. कसमें वादे प्यार वफा (फिल्म- उपकार)

5. तू प्यार का सागर है (फिल्म- सीमा)

6. तुझे सूरज कहूं या चंदा (फिल्म- एक फूल दो माली)

7. यारी है ईमान मेरा यार मेरी जिंदगी (फिल्म- जंजीर)

8. ये रात भीगी भीगी (फिल्म- चोरी चोरी)

9. ऐ मेरी जोहरा जबीं (फिल्म- वक्त)

10. प्यार हुआ इकरार हुआ है (फिल्म- श्री 420)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें