पोस्ट

अक्तूबर 19, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कानपुर में नरेन्द्र मोदी ने क्या - क्या कहा....

इमेज
1.कांग्रेस चुनाव जीतने के लिए वोट बैंक की राजनीति करती है और भाजपा कहती है देश के सारे धर्म मिल कर भारत माता की सेवा करो - नरेन्द्र मोदी 2.जनता की तपस्या बेकार नहीं जाएगी: नरेंद्र मोदी 3.अहंकारी हैं कांग्रेस के नेता : नरेंद्र मोदी 4=60 सालों से कांग्रेस झूठ बोल रही- नरेंद्र मोदी 5.यूपी में आतंकवादियों को छोड़ा जा रहा है= नरेंद्र मोदी 6.दिल्ली की सरकार चिकन बिरयानी का भोजन परोसती है -नरेंद्र मोदी 7.मैंने गरीबी को जिया है, इसीलिए गरीबों का दर्द समझता हूँ।- नरेन्द्र मोदी 8.सरकार को गरीबों की चिंता नहीं: नरेंद्र मोदी 9.चुनावों में झूठे वादे करती हैं कांग्रेस: नरेंद्र मोदी 10.कांग्रेस पार्टी ने देश को बर्बाद किया-नरेंद्र मोदी 11.कांग्रेस अहंकार में जी रही है। कांग्रेस को देश की परवाह नहीं। सोनिया ने कभी महंगाई की बात नहीं कीः नरेंद्र मोदी 12. ‘शहजादे जी कहते हैं गरीबी कुछ नहीं होती, सिर्फ मन की एक अवस्‍था है.’=नरेंद्र मोदी 13.शहजादे कैमरे की नजर से शहजादे गरीबी देखते हैं.=नरेंद्र मोदी 14.धूप में आप तपस्या कर रहे हैं। देश के कोने-कोने में यह प्यार उमड़ रहा है। आपकी तपस्या व्यर्थ नहीं जा

लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत सुनिश्चित - मोदी

इमेज
कानपुर रैली में नरेंद्र मोदी NDTV India, 19 अक्टूबर 2013 http://khabar.ndtv.com/news/india/narendra-modis कानपुर: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कांग्रेस से पिछले 10 वर्ष का हिसाब मांगा। मोदी ने कहा कि गुजरात की जनता को पिछले वर्ष ही मैंने अपना हिसाब दे दिया है और वहां के लोगों ने मुझे 2012 में विशेष योग्यता का अंक देकर पास घोषित कर दिया है। अब 2014 के चुनाव में कांग्रेस को पिछले 10 वर्ष का हिसाब पूरे देश की जनता को देना चाहिए। उत्तर प्रदेश की औद्योगिक नगरी कानपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि कांग्रेस देश की जनता को गुमराह न करे क्योंकि जनता जनार्दन है और उसने इन्हें पिछले 10 वर्ष से देश की बागडोर सौंपी है। इसलिए उसको जवाब मांगने का हक है और इन्हें भी चाहिए कि वह पाई-पाई का हिसाब जनता को दें। कांग्रेस नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की चुटकी लेते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री ने कहा कि आज लोकसभा चुनाव के पहले जब हिन्दुस्तान महंगाई और भ्रष्टाचार का जवाब मांग रहा है तो ये कहते हैं कि मैंने कानून बना दिया है। मोदी ने सवालि

खजाने की खुदाई से सरकार ने देश का मजाक बनाया : मोदी

इमेज
नवभारतटाइम्स.कॉम | 1 8 Oct , 2013, http://navbharattimes.indiatimes.com चेन्नै।। बीजेपी के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने अब यूपी के डौंडियाखेड़ा में चल रही खजाने की खोज को लेकर केंद्र सरकार को निशाने पर लिया है। मोदी ने कहा कि एक साधु के सपने के आधार पर खजाने की खुदाई से आज पूरी दुनिया हमारा मजाक उड़ा रही है। उन्होंने कहा सिर्फ सपने के आधार पर खुदाई हो रही है। किसी को सपना आया और दिल्ली की सरकार एक हजार टन सोने की खुदाई करने में लगी है। हालांकि कांग्रेस ने यह कहकर खुदाई के फैसले का बचाव किया है कि जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में इसकी सिफारिश की गई थी। मोदी ने कहा, 'अरे दिल्ली की सरकार... स्विट्जरलैंड के बैंकों में हिन्दुस्तान के चोर-लुटेरों ने जो रुपये रखे हैं वे एक हजार टन सोने से भी ज्यादा कीमत के हैं। उनके बारे में तो पता है, उन्हें ले आओ। विदेशी बैंको में चोरों ने जो पैसे रखे हैं उन्हें अगर वापस लाते तो, सोना खोजने की जरूरत नहीं पड़ती और देश की बेइज्जती नहीं होती।' मोदी के इस हमले पर जब कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी से इस बाबत पूछा गया तो उन्होंने प

विभाजन पर, एक बार फिर सुभाष की आत्मा रोई होगी..

इमेज
विभाजन पर, एक बार फिर सुभाष की आत्मा रोई होगी.. अरविन्द सीसौदिया     ‘‘हमारा कार्य           आरम्भ हो   चुका है।      ‘दिल्ली चलो’ के नारे के साथ हमें तब तक अपना श्रम और संघर्ष समाप्त नहीं करना चाहिए, जब तक कि दिल्ली में ‘वायसराय हाउस’ पर राष्ट्रीय ध्वज नहीं फहराया जाता है और आजाद हिन्द फौज भारत की राजधानी के प्राचीन ‘लाल किले’ में विजय परेड़ नहीं निकाल लेती है।’’     ये महान स्वप्न, एक महान राष्ट्रभक्त नेताजी सुभाषचन्द्र बोस का था, जो उन्होंने 25 अगस्त 1943 को आजाद हिन्द फौज के सुप्रीम कमाण्डर के नाते अपने प्रथम संदेश में कहे थे। यह सही है कि नेताजी ने जो सोचा होगा, उस योजना से सब कुछ नहीं हो सका, क्योंकि नियति की योजना कुछ ओर थी। मगर यह आश्चर्यजनक है कि उस वायसराय भवन पर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराने और लाल किले पर भारतीय सेना की परेड़ निकालने का अवसर महज चार वर्ष बाद ही यथा 15 अगस्त 1947 को नेताजी की ही आजाद हिन्द फौज की गिरफ्तारी के कारण उत्पन्न सैन्य विद्रोह और राष्ट्र जागरण के कारण ही मिल गया और आज हम आजाद हैं....।     यद्यपि नेताजी हमारे बीच नहीं हैं, उनकी कथित तौर पर म