पोस्ट

अक्तूबर 29, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सरदार वल्‍लभभाई पटेल,प्रधानमंत्री होते तो इतिहास कुछ ओर होता

चित्र
अहमदाबाद। सरदार वल्‍लभभाई पटेल संग्रहालय के उद्घाटन के अवसर पर भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक साथ मंच पर अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। इस दौरान गुजरात की राज्‍यपाल कमला बेनीवाल, केंद्रीय मंत्री प्रफुल्‍ल पटेल और कई पूर्व नेता मौजूद थे। इस अवसर पर मोदी ने कहा कि 'हम प्रधानमंत्री को इस अवसर पर आने के लिए धन्‍यवाद देते हैं और उन्‍होने जो गुजरात सरकार के विकास कार्यों की समय समय पर सराहना की, पुरस्‍कृत किया, उससे हमारा उत्‍साह बढ़ा। मोदी ने कहा कि आज भी हमारे देश के सामने आतंकवाद, नक्‍सलवाद जैसी बड़ी समस्‍याएं है, जिनसे हमें जूझना पड़ रहा है, ऐसे में जरूरी है कि हम अपने देश के युवाओं को सही दिशा दिखाएं जिससे कि वह हिंसा का रास्‍ता छोड़ सकें। हमें युवाओं को बताना होगा कि गोली और बंदूकों से देश और समाज की तरक्‍की नहीं होती है। मोदी ने सरदार पटेल के बारे में कहा कि वह सही मायने में भारत की एकता के प्रतीक हैं। उनके पास देश के विकास का एक मॉडल था। अगर वह देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो देश का इतिहास आज कुछ दूसरा होता। हम यहां उन