पोस्ट

जुलाई 21, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कांग्रेस ने भ्रष्टाचार न्यायपालिका तक फैला दिया

इमेज
कांग्रेस ने भ्रष्टाचार  न्यायपालिका तक फैला दिया  ' सरकार बचाने के लिए भ्रष्ट जज को मिलता रहा प्रमोशन ' टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Jul 21, 2014, मार्कंडेय काटजू (यह खुलासा सुप्रीम कोर्ट के जज और मद्रास हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस रहे मार्कंडेय काटजू द्वारा किया गया है। वर्तमान में वह प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन हैं।) मद्रास हाई कोर्ट के एक जज के खिलाफ भ्रष्टाचार के कई आरोप लगे थे। उन्हें सीधे तौर पर तमिलनाडु में डिस्ट्रिक्ट जज के तौर पर नियुक्त कर दिया गया था। डिस्ट्रिक्ट जज के तौर पर इस जज के कार्यकाल के दौरान उनके खिलाफ मद्रास हाई कोर्ट के विभिन्न पोर्टफोलियो वाले जजों ने कम-से-कम आठ प्रतिकूल टिप्पणियां की थीं। लेकिन मद्रास हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस ने अपनी कलम की ताकत से एक ही झटके में सारी प्रतिकूल टिप्पणियों को हटा दिया और यह जज हाई कोर्ट में अडिशनल जज बन गए। वह तब तक इसी पद पर थे, जब नवंबर 2004 में मैं मद्रास हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस बनकर आया। इस जज को तमिलनाडु के एक बहुत ही महत्वपूर्ण राजनीतिक नेता का समर्थन प्राप्त था। मुझे बताया गया कि ऐसा इसलिए था

गत कांग्रेस सरकार ने शैक्षणिक अराजकता फैला दी - शिक्षा मंत्री सराफ

 गत कांग्रेस सरकार राजस्थान की जनता के लिए इतने गड्डे खोद कर गई है की उसे भरने में ही सैलून लग जाएँ Thursday, 17 July | 04:50:53 AM IST 28 हजार स्कूलों में तीस-तीस बच्चे भी नहीं जयपुर। शिक्षा मंत्री कालीचरण सराफ ने सदन में पिछली सरकार पर शैक्षणिक माहौल बिगाड़ने का आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य में स्कूलों के हालात यह है कि 28 हजार स्कूलों में शिक्षक तो 57 हजार से ज्यादा हैं, लेकिन बच्चों की संख्या प्रति स्कूल तीस भी नहीं है। प्रदेश के 142 स्कूल तो ऐसे हैं जहां 251 शिक्षक लगे हैं, लेकिन बच्चा एक भी नहीं हैं। शिक्षक यहां केवल अखबार पढ़ने आते हैं। उन्होंने कहा कि  एकीकरण करने से स्कूलों में शिक्षक पूरे उपलब्ध हो सकेंगे वहीं शिक्षा स्तर भी सुधरेगा। प्रश्नकाल के दौरान टोडाभीम विधायक घनश्याम ने स्कूलों के एकीकरण का मुद्दा उठाया था। इस पर अन्य विधायको ने भी कई सवाल किए। इनके जवाब में सराफ ने बताया कि पूर्व सरकार ने प्रदेश में शैक्षणिक अराजकता फैला दी। जिसके चलते प्रदेश में  हालात यह हैं कि 8164 स्कूलों में बच्चों की संख्या प्रति स्कूल 15 भी नहीं है, लेकिन शिक्षक यहां 14655 लगे हैं। ऐसे ही