पोस्ट

अक्तूबर 22, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

स्वस्थ प्रजातंत्र के लिए शतप्रतिशत मतदान : परम पूज्य सरसंघचालक डॉ. भागवत

इमेज
स्वस्थ प्रजातंत्र के लिए शत प्रतिशत मतदान जरूरी : परम  पूज्य सरसंघचालक Newsbharati      Date: 13 Oct 2013   http://vskkashi.blogspot.in/2013/10/blog-post.html नागपुर, अक्टूबर  13 : सामान्य नागरिकों के लिए चुनाव राजनीति नहीं है वरन वह उसके अनिवार्य प्रजातांत्रिक कर्तव्य निभाने का अवसर है। इसलिए मतदान करते समय मतदाता के रूप में नागरिकों द्वारा दलों की नीति व प्रत्याशी के चरित्र का सम्यक् समन्वित दृष्टि से मूल्यांकन करना चाहिए। नागरिकों के लिए चुनाव को महत्वपूर्ण मानते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने कहा कि सामान्य जनता को किसी छल, कपट अथवा भावना के बहकावे में नहीं आना चाहिए, बल्कि राष्ट्रहित की नीति पर चलनेवाले दल तथा सुयोग्य सक्षम प्रत्याशी को देखकर मतदान करना चाहिए। 100 प्रतिशत मतदान होना प्रजातंत्र के स्वास्थ्य को पोषित करता है। डॉ. भागवत संघ के विजयादशमी उत्सव के कार्यक्रम में सभा को सम्बोधित कर रहे थे। नागरिकों के चुनावी समय के कर्तव्य पर जोर डालते हुए सरसंघचालक ने कहा कि उदासीनता को त्यागकर इस दिशा में होनेवाले सभी प्रयासों में चुनाव क

करवा चौथ : सुहागिन महिलाओं का प्रिय पर्व - नीना शर्मा

इमेज
Neena Sharma - नीना शर्मा आज बहूत सखियों ने पुछा की ठीक विधि क्या है ? इस पर ये कहना छौंगी की सभी के घरो की अपनी परंपरा होती है उसके ही तौर तरीके से ही करनी चहिये मेरे एक प्रिये दोस्त ने कहा की इस व्रत का कुछ महात्म्य है  या यूँ ही लेडीज को भाव दे कर उल्लू बनाया मर्द क्यों नही करते..? ये भी सही है कई पति भी रखते हैं उलू बनाने की बात कुछ भी नहीं ये हिन्दू धर्म में ये भी एक व्रत है मेरे विचार से पति का ध्यान अपनी तरफ करने के लिए भी हो सकता है कभी कभी भटक जाते हैं खैर हिन्दू धर्म में इसका क्या महत्व है ये लिख रही हूँ ......विधि-विधान से करें करवा चौथ-सौभाग्यदायक व्रत है करवा चौथ--पति की दीर्घायु के लिए सुहागिन महिलाओं का प्रिय पर्व करवा चौथ का व्रत में महिलाएँ आज दिन भर निर्जल रहकर विधि-विधान से करेंगी। विधि-विधान से किया गया व्रत बहुत ही फलदाई होता है। इसमें व्रत की कथा सुनने का भी बहुत महत्व है। व्रत का विधि-विधान :- करवा चौथ के व्रत के दिन शाम को लकड़ी के पटिए पर लाल वस्त्र बिछाएँ। इसके बाद पटिए पर भगवान शिव, माता पार्वती, कार्तिकेय, गणेशजी की प्रतिमा स्थ